सीए और सीएस की तैयारी कराने वाले निजी कोचिंग संस्थानों को देना होगा 18 फीसद जीएसटी, एएएआर का निर्देश


एएएआर ने एएआर केरल द्वारा पूर्व में दिए गए फैसले को रखा बरकरार

कोच्चि स्थित लाजिक मैनेजमेंट ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट ने केरल एएआर द्वारा मई में दिए गए आदेश के खिलाफ अपील की थी। फैसला देते हुए एएएआर ने कहा कि अपीलकर्ता किसी तरह की प्रारंभिक शिक्षा या माध्यमिक शिक्षा प्रदान नहीं कर रहा है।

नई दिल्ली, आइएएनएस। चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीए), कास्ट अकाउंटेंसी और कंपनी सेक्रेटरी (सीएस) की तैयारी कराने वाले निजी कोचिंग संस्थानों को 18 फीसद जीएसटी देना होगा। केरल स्थित अपीलेट अथारिटी आन एडवांस रूलिंग (एएएआर) ने एएआर केरल द्वारा पूर्व में दिए गए फैसले को बरकरार रखते हुए ऐसे संस्थानों को शिक्षण संस्थान मानने से इन्कार कर दिया है।

दरअसल, कोच्चि स्थित लाजिक मैनेजमेंट ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट ने केरल एएआर द्वारा मई में दिए गए आदेश के खिलाफ अपील की थी। फैसला देते हुए एएएआर ने कहा कि अपीलकर्ता किसी तरह की प्रारंभिक शिक्षा या माध्यमिक शिक्षा प्रदान नहीं कर रहा है। ना ही वह सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त किसी तरह की व्यावसायिक शिक्षा प्रदान कर रहा है। ऐसे में उसे शिक्षा संस्थान नहीं माना जा सकता है। एएएआर ने यह भी स्पष्ट किया कि कालेजों, विश्वविद्यालय द्वारा संचालित किए जाने वाले डिग्री पाठ्यक्रमों को जीएसटी की छूट मिलती रहेगी।

अंबाला में कोरोना योद्धाओं को ऐसे दिया जाएगा सम्मान

अंबाला में कुछ अलग अंदाज में कोरोना योद्धाओं को सम्मानित करने का तरीका निकाला गया है। यहां एक वकील ने कोरोना योद्धाओं को सम्मानित करने के लिए एक अभियान चलाया है। उन्होंने फैसला किया है कि वो कोरोना योद्धाओं को सम्मान के तौर पर इनकम टैक्स रिटर्न नि:शुल्क फाइल करने का काम करेंगे।

चार्ट्ड आकउंटेट अनमोल राणा ने कहा कि पिछले साल उनकी पूरी टीम अनमोल राणा एंड एसोसिएट ने कोरोना योद्धाओं के सम्मान में एक अभियान चलाया था। इसके अंतर्गत सभी कोरोना योद्धा जिसमें डाक्टर्स, पुलिस, बैंक कर्मचारी, सामाजिक कार्यकर्ता, सेनाओं के जवान, स्वास्थ्य विभाग के कर्मी आदि शामिल थे। यही नहीं जिन्होंने भी कोरोना काल में अपनी जान की परवाह ना करते हुए भी नागरिकों की सेवा की थी। उन सभी की इनकम टैक्स की रिटर्न बिना किसी शुल्क के फाइल की गई थी।