बंगाल में दैनिक संक्रमण में गिरावट, कोविड-19 के 924 नए मामले आए और 13 मरीजों की मौत

 


बंगाल में दैनिक संक्रमण में गिरावट, कोविड-19 के 924 नए मामले आए और 13 मरीजों की मौत

बीते 24 घंटे के दौरान कोविड-19 के 1314 मरीज संक्रमण मुक्त भी हुए जिससे राज्य में इस जानलेवा वायरस को मात देने वालों की संख्या बढ़कर 1479312 हो गई। बंगाल में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या 14901 हो गई है।

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल में दैनिक संक्रमण के मामले में गिरावट का सिलसिला जारी है। राज्य में पिछले 24 घंटे के दौरान रविवार को कोविड-19 के 924 नये मामले सामने आने के साथ कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15,12,129 हो गई जबकि 13 और मरीजों की मौत होने से मृतकों की तादाद 17,916 हो गई। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने एक बुलेटिन जारी कर यह जानकारी दी।

बुलेटिन के मुताबिक बीते 24 घंटे के दौरान कोविड-19 के 1,314 मरीज संक्रमण मुक्त भी हुए, जिससे राज्य में इस जानलेवा वायरस को मात देने वालों की संख्या बढ़कर 14,79,312 हो गई। बंगाल में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या 14,901 हो गई है। संक्रमण से ठीक होने की दर 97.83 फीसद हो गई है। नदिया जिले में इस दौरान कोविड-19 के चार मरीजों की मौत हुई जबकि कोलकाता, उत्तर 24 परगना और दार्जिलिंग में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण दो-दो मरीजों की मौत हुई। हुगली, हावड़ा और जलपाईगुड़ी में संक्रमण से एक-एक व्यक्ति की जान गई।

बुलेटिन के अनुसार उत्तर 24 परगना जिले में सबसे अधिक 94 नये मामले दर्ज किए गए। इसके बाद पूर्व मेदिनीपुर में 87, कोलकाता में 82 और दार्जिलिंग में संक्रमण के 80 नये मामले सामने आए। गौरतलब है कि इससे पहले शनिवार को राज्य में कोविड-19 के 997 नए मामले आए थे एवं 17 मरीजों की मौत हुई थी।बता दें कि बंगाल में चुनाव के बाद कोरना संक्रमण के मामले में तेजी से इजाफा हुआ था। कोरोना संक्रमितों की दैनिक संख्या बढ़कर करीब 20 हजार के करीब पहुंच गई थी तथा प्रत्येक दिन लगभग 150 लोगों की मौत हो रही थी। लेकिन अब इस पर बहुत हद तक काबू पाया गया है।बता दें कि बंगाल में कोरोना संक्रमण के घटते मामले के मद्देनजर लॉकडाउन की पाबंदियों में ढ़ील दी गई है। हालांकि अभी भी 15 जुलाई तक लॉकडाउन जारी है। बंगाल में बसों को चलाने की अनुमति दी गई है, लेकिन अभी भी मेट्रो और लोकल ट्रेनें नहीं चल रही हैं, जिससे यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।