आगरा के जिला अस्पताल में दवाओं की कमी, एक रुपये का पर्चा और दवा 250 की


मरीजों को दवा बाजार से खरीदने के लिए कह रहे जिला अस्पताल के डाक्टर
 दवाओं की कमी। मरीजों को बाजार से खरीदने के लिए कह रहे डाक्टर ओपीडी में पहुंचे 1550 मरीज। जिला अस्पताल में जन औषधि केंद्र संचालित है। यहां जेनेरिक की सस्ती दवा मिलती हैं। मगर यहां भी सामान्य आइ ड्राप से लेकर एंटीबायोटिक उपलब्ध नहीं हैं।

आगरा,  संवाददाता। एक रुपये के पर्चे पर निश्शुल्क परामर्श और दवा लेने के लिए जिला अस्पताल पहुंच रहे मरीजों का दर्द बढ़ गया। यहां दवा नहीं मिली। मरीजों से बाजार से दवा खरीदने के लिए कहा गया, मरीजों को 150 से 250 रुपये की दवाएं बाजार से खरीदनी पडी। जिला अस्पताल में आइ ड्राप, ईयर ड्राप, कफ सीरप, एंटीबायोटिक के साथ ही चर्म रोग की दवाएं खत्म हो गई हैं। यहां परामर्श लेने आए मरीजों को बाजार से दवाएं खरीदनी पडी। ओपीडी में 1550 मरीजों को परामर्श दिया गया। जिला अस्पताल के कार्यवाहक अधीक्षक डा अशोक अग्रवाल ने बताया कि कुछ दवाएं खत्म हो गई हैं।

जन औषधि केंद्र पर दवा शार्ट

जिला अस्पताल में जन औषधि केंद्र संचालित है। यहां जेनेरिक की सस्ती दवा मिलती हैं। मगर, यहां भी सामान्य आइ ड्राप से लेकर एंटीबायोटिक उपलब्ध नहीं हैं।

पर्चे के लिए धक्कामुक्की, डाक्टर चैंबर के बाहर लाइन

जिला अस्पताल की ओपीडी में सुबह आठ बजे से ही पर्चा बनवाने के लिए मरीजों की लाइन लग गई। 10 बजे के बाद पर्चे की लाइन में धक्कामुक्की हुई। मरीज और तीमारदार मास्क पहनकर नहीं आए थे। डाक्टर के चैंबर के बाहर भी मरीजों की लंबी लाइन लगी रही।

30 मिनट से एक घंटा लाइन में लगने के बाद नंबर आया। शरीर पर चकत्ते हो गए हैं। सभी दवाएं बाजार से लेने के लिए कह दिया। 250 रुपये की दवाएं आई हैं।

पूजा, तिलक नगर

बेटी के कान में परेशानी है। ड्राप और दवाएं बाजार से खरीदने के लिए कह दिया। अस्पताल से दवा नहीं मिली। नूरबानो, बोदला

पर्चे के लिए धक्कामुक्की हुई। सुबह आठ बजे आ गए थे और 12 बजे डाक्टर को दिखाने के लिए नंबर आया। राधा, नुनिहाई

डाक्टर ने दवाएं बाजार से लेने के लिए कह दिया। जन औषधि केंद्र पर सस्ती दवा लेने गए लेकिन वहां भी नहीं मिली।

भीकम सिंह, सुल्तानगंज की पुलिया