मंगलवार सुबह आठ बजे तक राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों को मिली 39.46 करोड़ से ज्यादा कोरोना वैक्सीन

 


मंगलवार सुबह आठ बजे तक राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों को मिली 39.46 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन

देश में अब तक 39.46 करोड़ से ज्यादा कोरोना वैक्सीन की डोज राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में प्रदान की गई है। इसके अलावा 1.91 करोड़ से अधिक शेष और अप्रयुक्त खुराक अभी भी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों सहित निजी अस्पतालों के पास उपलब्ध हैं।

नई दिल्ली, एएनआइ। देश में अब तक 39.46 करोड़ से ज्यादा कोरोना वैक्सीन की डोज राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में प्रदान की गई है। इसके अलावा 1.91 करोड़ से अधिक शेष और अप्रयुक्त खुराक अभी भी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों सहित निजी अस्पतालों के पास उपलब्ध हैं। आज सुबह आठ बजे तक जारी किए आंकड़ों के मुताबिक, इसमें अपव्यय सहित कुल खपत 37,55,38,390 खुराक शामिल हैं। 

बता दें कि केंद्र सरकार पूरे देश में कोरोना टीकाकरण की गति को तेज करने और इसके दायरे का विस्तार करने के लिए प्रतिबद्ध है। टीकाकरण का महाअभियान का नया चरण 21 जून 2021 से शुरू किया गया था। टीकाकरण अभियान के हिस्से के रूप में भारत सरकार राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को मुफ्त में कोरोना टीके उपलब्ध कराकर उनका समर्थन कर रही है। टीकाकरण के महाअभियान के तहत केंद्र सरकार देश में वैक्सीन निर्माताओं द्वारा उत्पादित किए जा रहे टीकों का 75 फीसद राज्यों और केंद्राशासित प्रदेशों को खरीद और आपूर्ति (मुफ्त) करेगी।

देश में कोरोना की ताजा स्थिति

अगर देश में कोरोना की ताजा स्थिति के बार में बात करें तो आज भारत में करीब 118 दिनों के बाद सबसे कम नए मामले दर्ज किए हैं। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, देश में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना संक्रमण के कुल 31443 मामले सामने आए हैं। वहीं देश में रिकवरी रेट में तेजी आई है और ये अब 97.28 फीसद तक जा पहुंचा है। देश के एक्टिव मामलों की संख्‍या अब 431315 हो गई है, जो बीते 109 में सबसे कम है।

आठ राज्यों में कोरोना के मामले बढ़े

वहीं देश में ऐसे करीब आठ राज्‍य हैं जहां पर लगातार कोरोना के मामलों में तेजी देखी जा रही है। इसको देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज आठ राज्‍यों, जिसमें असम, मेघालय, नगालैंड, त्रिपुरा, सिक्किम, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश और मिजोरम शामिल हैं, के मुख्यमंत्रियों से इस विषय पर वर्चुअल बैठक भी करने वाले हैं। इसका मकसद बढ़ते मामलों की रोकथाम को लेकर किए जाने वाले उपायों पर विचार करना है।