केंद्र सरकार ने बताया, राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 42.15 करोड़ से अधिक टीके की खुराक दी गई

 


कोरोना वायरस को रोकने के लिए पूरे देशभर में टीकाकरण अभियान चल रहा है।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि सभी स्रोतों के जरिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अब तक 42.15 करोड़ से अधिक वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। पर्याप्त डोज नहीं मिलने से राज्यों के दिक्कत हो रही है।

नई दिल्ली, एएनआइ। कोरोना वायरस को रोकने के लिए देशभर में टीकाकरण अभियान चल रहा है। कुछ राज्यों में टीके की कमी के कारण अभियान पर असर पड़ रहा है। तो वहीं स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि सभी स्रोतों के जरिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अब तक 42.15 करोड़ (42,15,43,730) से अधिक वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है।

केंद्र ने कहा है कि राज्यों और निजी अस्पतालों के पास कोरोना की 3.20 कोरोड़ (3,20,01,490) शेष और अप्रयुक्त वैक्सीन उपलब्ध हैं। आज सुबह 8 बजे के आंकड़ों के अनुसार, उपलब्ध कराए गए टीकों में से अपव्यय सहित कुल खपत 40,59,77,410 खुराक हैं।

राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में टीकों की उपलब्धता से टीकाकरण अभियान तेज हो गया है। राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत केंद्र सरकार- राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों को मुफ्त में कोरोना के टीके दी रही है। केंद्र सरकार कोरोना वैक्सीन कंपनियों द्वारा बनाए जा रहे टीकों का 75 प्रतिशत राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को खरीद और आपूर्ति मुफ्त में करेगी।

दिल्ली सरकार ने मंगलवार को बताया था कि दिल्ली के पास कोरोना टीके की एक दिन की डोज बची हैं। दिल्ली के पास कल तक यानी बुधवार तक के टीके की डोज है। तो वहीं मध्य प्रदेश में भी टीके ना होने से दिक्कतें बढ़ती जा रही हैं। मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक की बेंच ने केंद्र सरकार से मध्य प्रदेश को अवश्यकता के अनुसार टीके देने के लिए कहा है। मध्य प्रदेश में कोरोना के 40 लाख टीकों की जरूरत हर सप्ताह पड़ती है। तो वहीं, देशभर से कोरोना के नमूनों की जीनोम सिक्वेंसिंग की गई, जांच में पता चला कि कोरोना वायरस का डेल्टा वैरियेंट (B1617.2) कोरोना लहर का मुख्य कारण है। कोरोना से बचने के लिए सभी को कोविड-19 के दोनों टीके लगवाने जरूरी हैं।