पुलिस मुठभेड़ में 5 बदमाश गिरफ्तार, मुख्य साजिशकर्ता बिल्डर अभी भी फरार

 


देररात पुलिस मुठभेड़ में पांच बदमाश गिरफ्तार

बाड़ा हिंदूराव इलाके में हुई फायरिंग के मामले में दिल्ली पुलिस ने पांच आरोपितों को गिरफ्तार किया है। मामले में अभी मुख्य साजिशकर्ता बिल्डर समेत कई अन्य फरार हैं। आरोपितों की पहचान फराशखाना निवासी मेहताब नंदनगरी निवासी राहुल उर्फ चार्ली व हिमांशु के रूप में हुई है।

 नई दिल्ली,  संवाददाता। बाड़ा हिंदूराव इलाके में हुई फायरिंग के मामले में दिल्ली पुलिस ने पांच आरोपितों को गिरफ्तार किया है। मामले में अभी मुख्य साजिशकर्ता बिल्डर समेत कई अन्य फरार हैं। आरोपितों की पहचान फराशखाना निवासी मेहताब, नंदनगरी निवासी राहुल उर्फ चार्ली व हिमांशु के रूप में हुई है। इसके अलावा पुलिस ने दो अन्य आरोपितों को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस उपायुक्त एंटो अल्फोंस के मुताबिक, प्रारंभिक जांच में पता चला कि पीडि़त नईम व उनके भांजे मुनीफ की सदर बाजार, बाड़ा हिंदूराव व दिल्ली के अन्य इलाकों के बिल्डरों के साथ प्रतिद्वंदिता थी। जांच में पता चला कि बाड़ा हिंदूराव इलाके के अहाता किदारा में मुनीफ ने एक भवन निर्माण पर रोक लगवा कर उसे ध्वस्त करवा दिया था। इस भवन का निर्माण दानिश नामक बिल्डर करा रहा था। भवन के ध्वस्त होने से दानिश को करोड़ों का नुकसान हुआ था।

 इसी मामले में दानिश ने नईम व मुनीफ को मारने के लिए अपने रिश्तेदारों व बदमाशों को पांच लाख की सुपारी देकर साजिश रची थी। पुलिस टीम ने घटनास्थल के पास लगे सीसीटीवी फुटेज की जांच की तो चार बदमाशों की पहचान हुई।

इसके बाद पुलिस टीम ने एक सूचना पर वारदात में शामिल एक बदमाश राहुल उर्फ चार्ली को सिविल लाइन इलाके से गिरफ्तार कर लिया। वहीं, पुलिस की एक दूसरी टीम ने वारदात में शामिल दूसरे बदमाश हिमांशु को पकड़ लिया। पूछताछ में दोनों ने बताया कि उनके एक दोस्त ने उन्हे बाड़ा हिंदूराव इलाके में किसी काम के लिए बुलाया। इसके बाद तीन लोग आटो से किशनगंज रेलवे स्टेशन के पास रेलवे ट्रैक पर पहुचे वहां पर कार से दानिश और मेहताब आया और नईम व मुनीफ को मारने के लिए कहा।

वैक्सीन के बारे में पूछने के बहाने अस्पताल गया था राहुल

राहुल वैक्सीन के बारे में पूछने के बहाने अस्पताल में यह पता लगाने के लिए गया था कि नईम व मुनीफ अस्पताल में मौजूद हैं या नहीं। इसके साथ ही उसे मुनीफ की कार को रोकने के लिए भी कहा गया था। जब राहुल मुनीफ की कार के सामने आया तो मुनीफ से उसकी बहस होने लगी। बात हाथापाई तक पहुंच गई थी। इस दौरान वहां कई और लोग गए। अन्य बदमाशों ने फायरिंग कर मौके से फरार हो गए।