मानसून की बारिश का अभी और करना होगा इंतजार, जानें- किन हिस्सों में होगी सामान्य से कम बारिश


जुलाई के महीने में 'सामान्य से कम' बारिश होने का अनुमान

 महाराष्ट्र के पुणे क्षेत्र के सतारा सांगली और कोल्हापुर जिलों में जुलाई के महीने में सामान्य से कम बारिश होने का अनुमान लगाया गया है। वर्धा और चंद्रपुर जिलों के कुछ हिस्सों में भी जुलाई महीने में सामान्य से कम बारिश होने का अनुमान है।

नई दिल्ली, एजेंसियां। देश के कई राज्यों में मानसून की बारिश हो रही है। वहीं, अभी दिल्ली-एनसीआर के लोगों को कम से कम पांच दिनों तक मानसून की बारिश का इंतजार करना होगा। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) ने बताया कि दिल्ली समेत उत्तर भारत के कई अहम राज्यों में मानसून के 9 जुलाई तक आने की संभावना है। इसके साथ ही जुलाई महीने में 'पूरे देश में सामान्य' बारिश होने की आशंका जताई गई है। हालांकि, रविवार को राजधानी दिल्ली में हल्‍की बारिश का अनुमान है। दिल्‍ली में अधिकतम तापमान 38.6 डिग्री तक गिर गया। रविवार को यह 40 डिग्री के आसपास रहने के आसार हैं। मौसम विभाग के अनुसार उत्तर पश्चिम भारत के कई क्षेत्रों, मध्य भारत और पूर्व और उत्तर पूर्व भारत के कुछ हिस्सों में सामान्य से कम बारिश की संभावना है। 

जुलाई में इन राज्यों में होगी सामान्य से कम बारिश

हिमाचल प्रदेश की सीमा से लगे क्षेत्रों को छोड़कर पूरे केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में 'सामान्य से कम' बारिश होने का अनुमान लगाया गया है। हरियाणा के फतेहाबाद और जींद, कैथल, झज्जर और भिवानी जिलों के कुछ हिस्सों में भी सामान्य से कम बारिश होने का अनुमान है। चीन की सीमा से लगे उत्तराखंड के जिले; उत्तरकाशी, चमोली और पिथौरागढ़ में जुलाई के महीने में 'सामान्य से कम' बारिश होने का अनुमान है। पश्चिम बंगाल, बांकुरा, पुरुलिया, पश्चिम मिदनापुर और बर्धमान जिलों के कुछ हिस्सों में इस जुलाई में 'सामान्य से कम' बारिश होने का अनुमान है।

देश के इन राज्यों में सामान्य से अधिक बारिश का अनुमान

देश के बाकी हिस्सों में, मानसून के सामान्य से अधिक सामान्य से अधिक बारिश होने का अनुमान लगाया गया है। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, बिहार, तेलंगाना, ओडिशा, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश के दक्षिणी हिस्से को छोड़कर अधिकांश पूर्वोत्तर में सामान्य से सामान्य से अधिक बारिश होने का अनुमान है।