केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल के बाद सरकार ने शक्तिशाली समितियों का किया पुनर्गठन, स्मृति और भूपेंद्र शामिल

 


केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल के बाद सरकार ने शक्तिशाली समितियों का किया पुनर्गठन। फाइल फोटो।

केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल के कुछ दिनों बाद सरकार ने मंत्रिमंडल की शक्तिशाली समितियों का पुनर्गठन किया है। इसके तहत केंद्रीय मंत्रियों स्मृति ईरानी भूपेंद्र यादव और सर्बानंद सोनोवाल को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली राजनीतिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति का सदस्य बनाया गया है।

नई दिल्ली, एजेंसी। केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल के कुछ दिनों बाद सरकार ने मंत्रिमंडल की शक्तिशाली समितियों का पुनर्गठन किया है। इसके तहत केंद्रीय मंत्रियों स्मृति ईरानी, भूपेंद्र यादव और सर्बानंद सोनोवाल को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली राजनीतिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति का सदस्य बनाया गया है।

नियुक्ति संबंधी मंत्रिमंडल समिति में कोई बदलाव नहीं

मंत्रिमंडल सचिवालय की ओर से जारी अधिसूचना के अनुसार, केंद्रीय मंत्रियों वीरेंद्र कुमार, किरन रिजिजू और अनुराग ठाकुर को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली संसदीय मामलों की मंत्रिमंडल समिति में शामिल किया गया है। हालांकि, सुरक्षा मामलों पर फैसला लेने वाली देश की सर्वोच्च संस्था- सुरक्षा संबंधी मंत्रिमंडल समिति और संयुक्त सचिव एवं उससे ऊपर के पदों पर सरकारी नियुक्तियों के संबंध में फैसला करने वाली नियुक्ति संबंधी मंत्रिमंडल समिति में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

पीएम मोदी समेत कई दिग्‍गज मंत्री सुरक्षा संबंधी समिति में शामिल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और विदेश मंत्री एस जयशंकर सुरक्षा संबंधी मंत्रिमंडल समिति के सदस्य हैं। दो सदस्यीय नियुक्ति संबंधी मंत्रिमंडल समिति में प्रधानमंत्री और गृह मंत्री शामिल हैं। निवेश और विकास पर प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली मंत्रिमंडल समिति के नए सदस्यों में नारायण राणे, ज्योतिरादित्य सिंधिया और अश्विनी वैष्णव को शामिल किया गया है। प्रधानमंत्री की ही अध्यक्षता वाली रोजगार और कौशल विकास संबंधी मंत्रीमंडल समिति के नए सदस्यों में अश्विनी वैष्णव, भूपेंद्र यादव, रामचंद्र प्रसाद सिंह और जी किशन रेड्डी शामिल हैं।