इमरान खान के मंत्रियों ने खाई कसम, भ्रष्टाचार के आरोपी शहबाज शरीफ को नहीं छोड़ने देंगे देश


इमरान सरकार ने हाई-प्रोफाइल भ्रष्टाचार के मामलों की लाइव कवरेज की अनुमति देने की अपील है।
फवाद चौधरी ने कहा कि नेशनल असेंबली में विपक्ष के नेता शहबाज शरीफ ने सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में अपने खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों के संबंध में अपनी स्थिति स्पष्ट करने के बजाय बिजली और गैस के मुद्दों को उठाया था।

इस्लामाबाद, एएनआइ। मनी लॉन्ड्रिंग और आय से अधिक संपत्ति के मामलों के आरोपी विपक्षी नेता शहबाज शरीफ पर निशाना साधते हुए इमरान खान के मंत्रियों ने कहा कि है पाकिस्तान सरकार उन्हें कभी भी देश छोड़ने की अनुमति नहीं देगी। सोमवार को सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने प्रधानमंत्री के सलाहकार मिर्जा शहजाद अकबर और ऊर्जा मंत्री हम्माद अजहर के साथ कसम खाई कि इमरान खान के नेतृत्व वाली सरकार पाकिस्तान मुस्लिम लीग- नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शहबाज शरीफ को कभी देश छोड़ने की अनुमति नहीं देगी। इसके अलावा फवाद चौधरी ने पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश गुलज़ार अहमद से विपक्षी नेताओं के हाई-प्रोफाइल भ्रष्टाचार के मामलों की लाइव कवरेज की अनुमति देने की अपील की है।

इस दौरान शहजाद अकबर ने कहा कि शहबाज शरीफ को लंदन भागने की कोशिश नहीं करनी चाहिए और अदालतों में अपने भ्रष्टाचार के बारे में जवाब देना चाहिए क्योंकि हम उन्हें विदेश भागने नहीं देंगे। वहीं, शहबाज शरीफ के इस दावे को खारिज करते हुए कि उन्हें संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) के अधिकारियों द्वारा परेशान किया गया था, प्रधानमंत्री के सलाहकार ने कहा, 'बल्कि शहबाज शरीफ के बेटे हमजा शरीफ ने एफआईए अधिकारियों को गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी है। पूर्व शासकों की कुछ संपत्तियों को पनामा पेपर्स घोटाले के माध्यम से उजागर किया गया था और कई का अभी तक पता नहीं चला है।

फवाद चौधरी ने कहा कि नेशनल असेंबली में विपक्ष के नेता शहबाज शरीफ ने सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में अपने खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों के संबंध में अपनी स्थिति स्पष्ट करने के बजाय बिजली और गैस के मुद्दों को उठाया था। शहबाज को जाली दस्तावेजों पर विदेशों में 25 अरब रुपये की लॉन्ड्रिंग के बारे में सवालों का जवाब देना चाहिए, लेकिन उन्होंने बताया कि उन्होंने पंजाब में मेट्रो बस सेवा का निर्माण की बात की। जब उनसे पूछा गया कि उनके बेटों ने विदेशों में अरबों रुपये ट्रांसफर किए हैं, तो उनका कहना है कि उन्होंने जलापूर्ति योजनाओं पर काम किया है। जब शहबाज से उनके खातों में अरबों रुपये ट्रांसफर करने के बारे में सवाल किया जाता है, तो उनका कहना है कि उन्होंने पंजाब प्रांत की सेवा की है।

सूचना मंत्री ने कहा कि विपक्षी नेताओं ने अदालतों में अपने मामलों की सुनवाई के दौरान बाहर प्रेस कांफ्रेंस में उनके द्वारा कही गई बातों के विपरीत बयान दिए। द न्यूज इंटरनेशनल की रिपोर्ट के अनुसार, शहबाज परिवार के वकील अमजद परवेज ने अदालत के समक्ष तर्क दिया कि उनके मुवक्किलों ने अपने जवाब संघीय जांच एजेंसी को सौंप दिए हैं।