राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अजय चौटाला का बड़ा बयान- आंदोलनकारी व सरकार के बीच मध्यस्थता के लिए तैयार


JJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अजय चौटाला का बड़ा बयान- आंदोलनकारी व सरकार के बीच मध्यस्थता के लिए तैयार

अजय चौटाला ने तीन कृषि कानूनों को लेकर चर्चा करते हुए कहा कि वे आंदोलनकारी व सरकार के बीच मध्यस्थता के लिए हमेशा उपलब्ध हैं। जजपा का गठन ही किसान-कमेरा-मजदूर वर्ग के हितों व कल्याण के लिए किया गया है। किसान-कमेरा-मजदूर के बिना जजपा का कोई अर्थ नहीं है

सोनीपत,  संवाददाता। जननायक जनता पार्टी (जजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अजय चौटाला ने जजपा में शामिल हुए युवाओं का स्वागत करते हुए कहा कि तीन कृषि कानूनों को लेकर आंदोलन कर रहे लोगों व सरकार के बीच वे मध्यस्थता के लिए तैयार हैं, ताकि समस्या का समाधान हो सके। इसके लिए आंदोलनकारी नेता जब चाहें उनसे संपर्क कर सकते हैं। वे सोमवार शाम को ककरोई रोड स्थित जजपा कार्यकर्ता युवा सचिन लाठिया के आवास पर कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे।

राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अजय चौटाला ने तीन कृषि कानूनों को लेकर चर्चा करते हुए कहा कि वे आंदोलनकारी व सरकार के बीच मध्यस्थता के लिए हमेशा उपलब्ध हैं। जजपा का गठन ही किसान-कमेरा-मजदूर वर्ग के हितों व कल्याण के लिए किया गया है। किसान-कमेरा-मजदूर के बिना जजपा का कोई अर्थ नहीं है। आंदोलनकारियों को भी बातचीत का रास्ता अपनाना चाहिए, ताकि समस्या का हल निकल सके। संवादहीनता से किसी भी समस्या का समाधान संभव नहीं है। वे किसानों के हितों के लिए हमेशा खड़े रहे हैं।

कार्यक्रम के दौरान डॉ. चौटाला की उपस्थिति में करीब तीन दर्जन युवा जजपा में शामिल हुए। सभी का पार्टी में स्वागत करते हुए उन्होंने भरोसा दिलाया कि युवाओं को पार्टी में पूर्ण मान-सम्मान दिया जाएगा। सोनीपत से अपने विशेष लगाव का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यहां से शिक्षा ग्रहण की है, जिससे आज वे इस मुकाम पर पहुंचे हैं। सोनीपत को शिक्षा के हब के रूप में विकसित किया जा रहा है। इसमें जजपा अपना पूर्ण योगदान दे रही है।इस मौके पर जजपा के जिलाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक पदम ¨सह दहिया, चेयरमैन पवन खरखौदा, राष्ट्रीय सचिव भूपेंद्र मलिक, जजपा के बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ की राष्ट्रीय महासचिव डा. मोनिका मलिक, रणधीर मलिक, अजीत आंतिल, संदीप गहलावत, ओमप्रकाश रसोई, नरेंद्र गहलावत, बबीता दहिया, भीम मेहरा आदि उपस्थित थे।