महाराष्ट्र के कई जिलों में बाढ़ की स्थिति, यूपी सहित इन राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी, कई राज्यों में एनडीआरएफ की टीम तैनात

 


महाराष्ट्र के कई जिलों में भारी बारिश से बाढ़ की स्थिति, एनडीआरएफ की टीम तैनात (फाइल फोटो)

मौसम विभाग की मानें तो जम्मू कश्मीर हिमाचल प्रदेश से उत्तराखंड तक अगले दो दिनों तक मूसलाधार बारिश की संभावना है। दिल्ली में कल तक गरज के साथ बौछारें पड़ेंगी। 23 से यहां भी बारिश बढ़ सकती है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश में अगले 4 दिन भारी बारिश जारी रहेगी।

नई दिल्ली, एजेंसी। देश के अलग-अलग हिस्सों में मानसून जमकर बरस रहा है। दिल्ली एनसीआर के तमाम इलाकों में जमकर बारिश होने वाली है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले तीन-चार दिनों तक पश्चिम और मध्य भारत में भारी बारिश का पूर्वानुमान है। वहीं मुंबई सहित महाराष्ट्र के कई जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश होने का पूर्वानुमान व्यक्त करते हुए ‘रेड’ अलर्ट जारी किया गया है। राज्य के कई जिलों में भारी बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति बन गई है।

मौसम विभाग की मानें तो जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश से उत्तराखंड तक अगले दो दिनों तक मूसलाधार बारिश की संभावना है। दिल्ली में कल तक गरज के साथ बौछारें पड़ेंगी। 23 से यहां भी बारिश बढ़ सकती है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश में अगले 4 दिन भारी बारिश जारी रहेगी। मौसम विभाग के अनुसार बिहार, झारखंड और ओडिशा, छत्तीसगढ़ में भी 23 से बारिश गतिविधियां और तेज होने की संभावना है।

महाराष्ट्र में लगातार बारिश से कई इलाकों में बाढ़ की स्थिति

महाराष्ट्र में गुरुवार को 24 घंटों से लगातार हो रही मूसलाधार बारिश ने पश्चिमी और तटीय महाराष्ट्र में सामान्य जनजीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया है। वहीं विभिन्न शहरों में फंसे हजारों लोगों को निकालने के लिए बचाव दल तैनात किए गए हैं। पुणे, नासिक के अलावा ठाणे, पालघर, रायगढ़, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग और पश्चिमी जिलों सतारा, कोल्हापुर के तटीय जिलों में भारी बारिश हुई है, जिसके परिणामस्वरूप बड़ी और छोटी नदियां खतरे के स्तर से ऊपर बह रही हैं। भिवंडी, बदलापुर, उल्हासनगर, कल्याण, डोंबिवली, चिपलून खेड़, सावंतवाड़ी, मानगांव, कुडाल और अन्य जैसे कई शहरों में तीन से छह फीट पानी और कुछ निचले इलाकों में उच्च स्तर से भर गया है। रन्नागिरी के चिपलुन तालुका में लगातार हो रही बारिश के बाद बाढ़ जैसे हालत बन गए हैं। भारतीय नौसेना रत्नागिरी, चिपलून और कोंकण के अन्य क्षेत्रों में बचाव अभियान में शामिल होगी जहां भारी बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है। टीमें शीघ्र ही कोंकण क्षेत्र के लिए रवाना होंगी।

अगले 24 घंटों के दौरान इन राज्यों में बारिश की चेतावनी

अगले 24 घंटों के दौरान, कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र के आसपास के हिस्सों, तेलंगाना, विदर्भ, मराठवाड़ा, मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों, तटीय आंध्र प्रदेश, ओडिशा और राजस्थान के अलग-अलग हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश की संभावना है। उत्तर प्रदेश, दक्षिण गुजरात के कुछ हिस्सों, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, आंतरिक कर्नाटक, केरल, हिमाचल प्रदेश, असम और पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक थानों पर कुछ देर के लिए तेज बारिश की संभावना है। हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, पंजाब के कुछ हिस्सों, हरियाणा के कुछ हिस्सों, सौराष्ट्र और कच्छ, बिहार के कुछ हिस्सों, झारखंड, केरल के तमिलनाडु के कुछ हिस्सों और लक्षद्वीप में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। दिल्ली और एनसीआर में छिटपुट बादल गरजने या हल्की बारिश हो सकती है।

उत्तराखंड में मौसम विभाग ने अगले चार दिन भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है। खासतौर पर पर्वतीय जिलों में भारी बारिश की संभावना है। 25 जुलाई के बाद बारिश में और तेजी आएगी। गुरुवार को देहरादून, पिथौरागढ़ और नैनीताल के कुछ स्थानों पर बारिश का येलो अलर्ट मौसम विभाग ने दिया है। 23 जुलाई को उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, पिथौरागढ़, बागेश्वर में आकाशीय बिजली गिरने और भारी बारिश हो सकती है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक 24 जुलाई को उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, पिथौरागढ़, बागेश्वर, 25 को नैनीताल, चंपावत, पौड़ी और पिथौरागढ़ में भारी बारिश की संभावना है। उन्होंने बताया कि 25 जुलाई के बाद बारिश में और तेजी आने के आसार बन रहे हैं। उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटे में चंपावत, कोटद्वार, धनोल्टी, नैनीताल, हल्द्वानी, देवीधुरा, भीमताल, बेतालघाट समेत अन्य जगहों पर जमकर बारिश हुई है।

देश के कई राज्यों में भारी बारिश के कारण बाढ़ व प्राकृतिक आपदा से निपटने के लिए एनडीआरएफ की टीम मुस्तैद है। एनडीआरएफ डीजी एसएन प्रधान ने बताया कि हमने देशभर में 26 राज्यों और 3 केंद्र शासित प्रदेशों में 119 टीम तैनात की हैं। हर साल मानसून में बाढ़ भी आती है, हम राज्यों के साथ बटालियन स्तर की बैठक करते हैं... अभी 12 बटालियन पूरी तरह कार्यरत हैं, 4 नई बटालियन के लिए सरकार द्वारा स्वीकृति दी गई है। तीन राज्यों में मानसून का हाल देखते हुए, एनडीआरएफ के उत्तर प्रदेश में 9 टीम, पश्चिम बंगाल में 10 टीम और गुजरात में 9 टीमों को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के आदेश पर भेजा गया है। बिहार के कुछ जिलों में मानसून का हाल बेहाल होते हुए देख, 13 एनडीआरएफ की टीमें पहुंची हैं।