पत्नी के चुनाव में सक्रिय थे धनंजय सिंह, तस्वीरें वायरल हुईं तो लखनऊ पुलिस ने घोषित किया भगौड़ा


चुनाव जीतने के बाद सुनवाई हुई और 25 हजार का इनामी धनंजय भगौड़ा घोषित हो गया।

खाकी व खादी का गठजोड़ किसी से छिपा नहीं है। पूर्व सांसद धनंजय सिंह के भगौड़ा घोषित किए जाने के बाद से चर्चा में आया है। जो धनंजय पत्नी श्रीकला रेड्डी को चुनाव लड़ाने में व्यस्त था वह लखनऊ पुलिस को नजर नहीं आया।

लखनऊ, संवाददाता। खाकी व खादी का गठजोड़ किसी से छिपा नहीं है। राजनीति में इन दिनों दोनों की दोस्ती के चर्चे आम हैं। ताजा मामला पूर्व सांसद धनंजय सिंह के भगौड़ा घोषित किए जाने के बाद से चर्चा में आया है। जो धनंजय पत्नी श्रीकला रेड्डी को जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव लड़ाने में व्यस्त था वह लखनऊ पुलिस को नजर नहीं आया। चुनाव जीतने के बाद सुनवाई हुई और 25 हजार का इनामी धनंजय भगौड़ा घोषित हो गया।

आपको जानकर हैरानी होगी कि लखनऊ पुलिस इस पूरे प्रकरण में शुरू से ही लापरवाही बरत रही है। धनंजय के खिलाफ जब इनाम घोषित हुआ था तो पुलिस ने कुर्की की तैयारी शुरू कर दी थी।

पुराने मामले में धनंजय ने प्रयागराज के एमपी एमएलए कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। कुछ दिन तक वह जेल में था, लेकिन लखनऊ पुलिस ने उसकी सुध न ली। यहां तक की न तो उसका कभी वारंट बना और न ही उसे रिमांड पर लेने का प्रयास किया गया। नतीजा, धनंजय सिंह को कोर्ट से जमानत मिल गई। तब से वह लगातार राजनीति में सक्रिय है। शादी, अंतिम संस्कार में शामिल होने से लेकर क्षेत्र में वोट मांगते हुए उसकी तस्वीरें इंटरनेट मीडिया पर  अक्सर वायरल हुईं।

हालांकि, पुलिस ने दिखावे के लिए दबिश दी, जिसका वीडियो भी वायरल हुआ और पुलिस की खूब किरकिरी हुई। इसके बाद पुलिस ने दोबारा दबिश की खानापूर्ति की। गौरतलब है कि मऊ के ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि अजीत सिंह की हत्या छह जनवरी को विभूतिखंड में कर दी गई थी। इस मामले में पुलिस ने धनंजय को हत्या की साजिश रचने का आरोपित बनाया है।