सरकार के पास जुमले तो होते हैं लेकिन टीके नहीं : राहुल गांधी


कांग्रेस लगातार मोदी सरकार के टीकाकरण अभियान की आलोचना कर रही है

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा कि जुमले हैं वैक्सीन नहीं (बयानबाजी है कोई टीका नहीं है) ट्वीट में राहुल गांधी ने हैशटैग व्हेयर अरे वैक्सीन्स का उपयोग भी किया है। इससे पहले भी राहुल गांधी ने टीके की कमी के मुद्दे पर ट्वीट किया था।

नई दिल्ली, पीटीआइ। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को राज्यों में टीकों की कथित कमी को लेकर केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार के पास जुमले तो होते हैं लेकिन टीके नहीं होते। राहुल गांधी ने एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला दिया। रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली सहित दूसरे अन्य राज्य टीकों की कमी का सामना कर रहे हैं, लेकिन केंद्र ने इससे इनकार किया था।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा कि जुमले हैं, वैक्सीन नहीं (बयानबाजी है, कोई टीका नहीं है), ट्वीट में राहुल गांधी ने हैशटैग 'व्हेयर अरे वैक्सीन्स' का उपयोग भी किया है। इससे पहले भी राहुल गांधी ने टीके की कमी के मुद्दे पर ट्वीट किया था। राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा था मंत्रियों की संख्या बढ़ी है, वैक्सीन की नहीं।

कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने मंगलवार को सरकार के कोविड ​​-19 टीकाकरण अभियान पर निशाना साधा था। पी चिदंबरम ने दिसंबर के अंत तक सभी वयस्कों को टीकाकरण के केंद्र के वादे को खाली घमंड और झूठा वादा करार दिया था। उन्होंने कहा था कि टीके की कमी एक सच्चाई है और टीके का आयात एक रहस्य है। ओडिशा ने बताया है कि 30 में से 24 जिलों में टीकों की कमी हो गई है। ओडिशा भाजपा के सहयोगी बीजद द्वारा शासित है। वैक्सीन की कमी की शिकायतों को खारिज करने वाली केंद्र सरकार का अब क्या कहना है?

कांग्रेस लगातार मोदी सरकार के टीकाकरण अभियान की आलोचना कर रही है और टीकाकरण कार्यक्रम धीमा होने का आरोप लगा रहा है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया था कि राज्यों के पास, केंद्र शासित प्रदेश और निजी अस्पतालों के पास 1.91 करोड़ से अधिक कोविड-19 वैक्सीन की खुराक अभी भी उपलब्ध है।

कई राज्यों में कोरोना वायरस रोधी टीके की कमी देखी जा रही है। टीकाकरण केंद्र पर लोगों को बीना टीका लगाए ही वापस भेजा जा रहा है।