त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था के बीच निकाली जा रही है महाप्रभु जगन्नाथ जी की बाहुड़ा यात्रा

 

 

आज महाप्रभु जगन्नाथ जी जन्म वेदी से रत्न वेदी की यात्रा करेंगे।

महाप्रभु जगन्नाथ जी आज 20 जुलाई को अपने भाई बहनों के साथ जन्‍म वेदी से रत्‍न वेदी लौटेंगे। पुरी में सुरक्षा व्‍यवस्‍था कड़ी कर दी गई है। सोमवार रात 8 बजे से 21 जुलाई बुधवार रात 8 बजे तक पुरी शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया है।

पुरी/ भुवनेश्वर,  संवाददाता। जगन्नाथ धाम पुरी में त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था के बीच मंगलवार को महाप्रभु जगन्नाथ जी बाहुड़ा (घर वापसी) यात्रा निकाली जा रही है। रथयात्रा की ही तरह निर्धारित समय से पहले ही अनुशासित ढंग से महाप्रभु की तमाम रीति नीति का संपादन किया जा रहा है। महाप्रभु की बाहुड़ा यात्रा में किसी प्रकार की अड़चन ना आने पाए, इसके लिए पुरी शहर को नाकेबंदी करते हुए कर्फ्यू जारी कर दिया गया है। ऐसे में बाहर से आने वाले लोगों का पुरी में प्रवेश पर तो रोक लगाया ही गया है पुरी शहर के अन्दर रहने वाले खासकर बड़दांड में रहने लोगों को घर से बाहर निकलने पर ही पाबंदी लगा दी गई है। बड़दांड के दोनों तरफ मौजूद इमारतों पर अत्याधुनिक हथियार के साथ सुरक्षा बल के जवान तैनात हैं। सीसीटीवी कैमरे से तमाम स्थिति पर नजर रखी जा रही है।

जानकारी के मुताबिक बाहुड़ा यात्रा के लिए गुंडिचा मंदिर में 4:30 मंगल आरती सम्पन्न किए जाने के बाद तड़प लागी, अवकाश नीति, द्वारपाल पूजा, सूर्यपाल पूजा, रसोई होम, खिचड़ी भोग लगाया गया। इसके बाद सुबह 7:30 बजे चतुर्धा विग्रहों की पहंडी बिजे शुरू हुई। निर्धारित समय से पहले ही चतुर्धा विग्रहों की पहंडी बिजे सम्पन्न करा ली गई। पहंडी बिजे सम्पन्न होने के गजपति महाराज दिव्य सिंहदेव रथ के ऊपर लगभग 11:30 पहुंचकर छेरा पहंरा करने का कार्यक्रम है।

गौरतलब है कि भाई बहन के साथ बाहुड़ा यात्रा (घर वापसी) में आज महाप्रभु जगन्नाथ जी जन्म वेदी से रत्न वेदी की यात्रा कर रहे हैं। कोरोना महामारी के कारण रथयात्रा की ही तर्ज पर बाहुड़ा यात्रा में भी तीनों रथों को मंदिर के सेवक ही खीचकर जगन्नाथ मंदिर तक लाएंगे। किसी भी भक्त को बाहुड़ा यात्रा में शामिल होना तो दूर की बात है, घरों के छतों के ऊपर से भी देखने पर सख्त प्रतिबंध लगाया है। जगन्नाथ धाम में त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था के बीच शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया है।

छत के ऊपर या खिड़की से बाहुड़ा यात्रा ना देखने की है हिदायत

रथयात्रा की ही तर्ज पर महाप्रभु की बाहुड़ा यात्रा के दौरान भी बड़दांड के दोनों तरफ की इमरातों में रहने वालों लोगों को छत के ऊपर या फिर खिड़की झरोखे से रथयात्रा ना देखने की सख्त हिदायत प्रशासन की तरफ से दी गई है। इस पर निगरानी के लिए 20 विशेष स्क्वाड का गठन किया है। यदि कोई भी व्यक्ति अपने घर या छत के ऊपर रथयात्रा के दौरान आता है तो फिर उसे तुरन्त यह स्क्वाड हिरासत में ले लेगा। होटल, लाज एवं घरों के मालिकों को इस संदर्भ में सख्त हिदायत दी गई है।

छतों के ऊपर तैनात है सशस्त्र पुलिस बल के जवान

बाहुड़ा यात्रा के दौरान छतों के ऊपर सशस्त्र पुलिस बल के जवान तैनात रहेंगे। किसी भी प्रकार की असुविधा से निपटने के लिए जल थल एवं नभ में सुरक्षा के कड़े इतंजाम किए गए हैं। पुरी शहर को जोड़ने वाले सभी मार्ग को सील कर दिया जाएगा। चूंकि रथयात्रा के दौरान कुछ लोग छतों के ऊपर फोटो एवं सेल्फी लेने का मामला सामने आया था, ऐसे में इस बार ऐसा ना हो, इसके लिए सुरक्षा व्यवस्था को और सख्त कर दिया गया है।