पीएम मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत दूसरे नेताओं ने भी दी जगन्नाथ रथयात्रा पर सभी देशवासियों को शुभकामनाएँ


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विटर पर लिखा रथ यात्रा के विशेष अवसर पर सभी को बधाई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विटर पर लिखा रथ यात्रा के विशेष अवसर पर सभी को बधाई। हम भगवान जगन्नाथ को नमन करते हैं और प्रार्थना करते हैं कि उनका आशीर्वाद सभी के जीवन में अच्छा स्वास्थ्य और समृद्धि लाए। जय जगन्नाथ!

नई दिल्ली, एएनआइ। आज यानी 12 जुलाई के दिन भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली जा रही है। पुरी में जगन्नाथ की यह राथयात्रा हर साल निकाली जाती है। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जगन्नाथ राथयात्रा के शुभ अवसर पर सभी श्रध्दालुओं को बधाई दी है।

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने अपने ट्विटर पर लिखा भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा के शुभ अवसर पर सभी देशवासियों, विशेष रूप से ओडिशा में सभी श्रध्दालुओं को मेरी हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। मैं कामना करता हूं कि प्रभु जगन्नाथ के आशीर्वाद से सभी देशवासियों का जीवन सुख, समृध्दि और स्वास्थ्य से परिपूर्ण बना रहे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विटर पर लिखा रथ यात्रा के विशेष अवसर पर सभी को बधाई। हम भगवान जगन्नाथ को नमन करते हैं और प्रार्थना करते हैं कि उनका आशीर्वाद सभी के जीवन में अच्छा स्वास्थ्य और समृद्धि लाए। जय जगन्नाथ!

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्विटर पर लिखा श्री जगन्नाथ रथयात्रा के पावन अवसर पर सभी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएँ। महाप्रभु जगन्नाथ सभी पर अपनी कृपा बनायें रखें और सभी के जीवन को उत्तम स्वास्थ्य, समृद्धि और सौभाग्य से परिपूर्ण करें। जय जगन्नाथ!

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्विटर पर लिखा महाप्रभु श्री जगन्नाथ जी की रथ यात्रा के पावन अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं! भगवान बलभद्र जी, माँ सुभद्रा जी व महाप्रभु जगन्नाथ जी का आशीर्वाद हम सभी पर सदैव बना रहे। मैं भगवान जगन्नाथ जी से सभी देशवासियों की सुख, समृद्धि, खुशहाली और आरोग्य की कामना करता हूँ। जय जगन्नाथ!

भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा भारत में ही नहीं पूरे विश्वभर में प्रसिद्ध है। पुरी के जगन्नाथ मंदिर में हर साल करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने और रथयात्रा में शामिल होने आते हैं। यह रथयात्रा आषाढ़ शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि पर निकाली जाती है। भगवान जगन्नाथ का यह धाम चार धामों में से एक है। इस साल कोर्ट ने कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट को देखते हुए पूरे ओडिशा में जगह-जगह रथयात्रा निकालने पर पाबंदी लगा दी थी।