नवनिर्वाचित अध्यक्ष अब्दुल्ला शाहिद ने सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता का किया समर्थन

 


यूएनजीए के नवनिर्वाचित अध्यक्ष अब्दुल्ला शाहिद ने सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता का किया समर्थन

संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 76वें सत्र के लिए नवनिर्वाचित अध्यक्ष और मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद बुधवार 21 जुलाई से तीन दिवसीय यात्रा पर भारत आए हुए हैं। गुरुवार को अब्दुल्ला शाहिद ने स्थायी सदस्य के रूप में सुरक्षा परिषद में भारत की सदस्यता का समर्थन किया

नई दिल्ली, एएनआइ। संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 76वें सत्र के लिए नवनिर्वाचित अध्यक्ष और मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद बुधवार 21 जुलाई से तीन दिवसीय यात्रा पर भारत आए हुए हैं। गुरुवार को अब्दुल्ला शाहिद ने स्थायी सदस्य के रूप में सुरक्षा परिषद में भारत की सदस्यता का समर्थन किया।

क्या कहा अब्दुल्ला शाहिद ने

विदेश मंत्रालय के अनुसार 7 जून को संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 76वें सत्र के लिए नवनिर्वाचित अध्यक्ष पद के लिए अब्दुल्ला शाहिद के चुने जाने के बाद यह पहला मौका है, जब सर्वप्रथम शाहिद भारत देश की यात्रा पर आए हैं। यह भारतीय दौरा अब्दुल्ला शाहिद संयुक्त राष्ट्र महासभा के निर्वाचित अध्यक्ष के रूप में अपनी आधिकारिक क्षमता के तहत कर रहे हैं। अपने तीन दिवसीय भारत दौरे के दौरान दूसरे दिन गुरुवार को अब्दुल्ला शाहिद समाचार एजेंसी एएनआइ से बातचीत में कहा कि 'एक स्थायी सदस्य के रूप में सुरक्षा परिषद में भारत की सदस्यता का समर्थन करते हैं। महासभा के अध्यक्ष के रूप में, देशों को एक साथ लाने और सुरक्षा परिषद सुधार प्रक्रिया पर व्यापक सहमति बनाने की कोशिश करने की मेरी भूमिका होगी।'

अब्दुल्ला शाहिद का तीन दिवसीय भारतीय दौरा होगा खास

संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 76वें सत्र के लिए नवनिर्वाचित अध्यक्ष और मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद का शुरू से ही भारत यूएनजीए की उम्मीदवारी के प्रतिष्ठित पद का समर्थन करता आया है। अब्दुल्ला शाहिद का यह तीन दिवसीय भारतीय दौरा बेहद खास होने वाला है। मालदीव में भारतीय सहायता से लागू की जाने वाली उच्च प्रभाव वाली सामुदायिक विकास परियोजनाओं के लिए एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किए जाएंगे। विदेश मंत्री एस जयशंकर संयुक्त राष्ट्र महासभा के निर्वाचित राष्ट्रपति के सम्मान में एक आधिकारिक रात्रिभोज की मेजबानी करेंगे। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 'शाहिद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शिष्टाचार मुलाकात करेंगे और विदेश मंत्री जयशंकर के साथ आपसी हित के प्रमुख अंतरराष्ट्रीय, बहुपक्षीय, क्षेत्रीय और द्विपक्षीय मुद्दों पर बातचीत करेंगे।'

हिंद महासागर, व्यापार और रक्षा में चीनी प्रभाव पर शाहिद की टिप्पणी

हिंद महासागर के पानी में, व्यापार और रक्षा में चीनी प्रभाव पर टिप्पणी करते हुए अब्दुल्ला शाहिद ने कहा कि, 'पिछली सरकार ने चीन से बहुत सारे विकास ऋण लिए थे। कई देशों के लिए कोविड-19 के दौरान ऋण चुकाना एक चुनौती थी, न केवल मालदीव, बल्कि सभी छोटे द्वीप देशों के साथ-साथ एलडीसी (सबसे कम विकसित देश) हम चीन और कई अन्य देशों से बात कर पाए हैं जिनसे हमने उधार लिया था। DSSI (ऋण सेवा निलंबन पहल) प्रक्रिया के माध्यम से, हमें सांस लेने के लिए जगह दी जा रही है। मुझे लगता है कि यह बहुत प्रशंसा की बात है कि G7 DSSI प्रक्रिया के साथ आया है"