विदेश सचिव ने कहा- शेख मुजीबुर रहमान ने किया बांग्लादेश की आजादी की महान लड़ाई का नेतृत्व


समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के दौरान विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि उन्होंने अपने राष्ट्र के विकास की नींव भी रखी। बांग्लादेश प्रभावशाली आर्थिक विस्तार दर और तेजी से सामाजिक-आर्थिक संकेतकों में सुधार के साथ क्षेत्र में विकास के प्रमुख इंजनों में से एक है।

नर्इ दिल्ली, एएनआइ। दिल्ली विश्वविद्यालय में बंगबंधु चेयर की स्थापना पर समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के दौरान विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि उन्होंने अपने राष्ट्र के विकास की नींव भी रखी। बांग्लादेश प्रभावशाली आर्थिक विस्तार दर और तेजी से सामाजिक-आर्थिक संकेतकों में सुधार के साथ क्षेत्र में विकास के प्रमुख इंजनों में से एक है। ऐसे कई क्षेत्र हैं जिनमें हमने इससे सीखा है और आगे भी करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि शेख मुजीबुर रहमान ने आजादी के लिए एक महान लड़ाई का नेतृत्व किया। उन्होंने एक राष्ट्र भी बनाया। चाहे कोई उन्हें बंगबंधु कहे या राष्ट्रपिता, इसमें कोई संदेह नहीं है कि एक बहुत बड़े ऐतिहासिक व्यक्ति की बात कर रहा हूं जिसने राष्ट्रों के भाग्य को आकार दिया।

उन्होंने कहा कि जैसा कि पीएम ने अपनी बांग्लादेश यात्रा में उल्लेख किया था, इस वर्ष मुजीब बोरशो की "त्रिवेणी" हमारे राजनयिक संबंधों की 50 वीं वर्षगांठ और बांग्लादेश के मुक्ति युद्ध की स्वर्ण जयंती का प्रतीक है। दोनों देशों के संबंध और मजबूत होंगे।विदेश सचिव ने कहा कि प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान सबसे महत्वपूर्ण प्रतिबद्धताओं में से एक पूरी हो गई है। भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद और दिल्ली विश्वविद्यालय के सहयोग से नई जमीन तैयार होगी, जो भारतीय शिक्षाविदों के बीच बांग्लादेश से संबंधित ज्ञान और सद्भावना बढ़ाने में मदद करेगी।