देश के दो तिहाई लोग हुए कोरोना संक्रम‍ित, बच्‍चों में मिली एंटीबॉडी; सीरो सर्वे में खुलासा

 


स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की प्रेस कांफ्रेंस में ICMR के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव

देश में कोरोना की स्थिति को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की प्रेस कांफ्रेंस में ICMR के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कहा क‍ि राष्ट्रीय सीरो सर्वे का चौथा चरण जून-जुलाई में 21 राज्यों के 70 ज़िलों में आयोजित किया गया। इसमें 6-17 वर्ष की आयु के बच्चे शामिल थे।

नई दिल्‍ली, एएनआइ। देश में किए गए सीरोलॉजिकल सर्वे में 67.6 फीसदी लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसका मतलब है कि इतने फीसदी लोग पहले कोरोना संक्रमण के चपेट में आ चुके हैं और इनके शरीर में कोविड-19 के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित हो चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि देश में कराए गए सीरो सर्वे में 67.7 फीसदी लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। यह सर्वे जून-जुलाई में 21 राज्यों के 70 ज़िलों में आयोजित किया गया है।

28,975 लोगों पर किए गए इस सर्वे में 6 से 17 साल के बच्चों को भी शामिल किया गया था। सर्वे में शामिल 67.6 फीसद लोगों में कोरोना एंटीबॉडी (Covid Antibody) मिली है यानी ये कोरोना संक्रमित हो चुके थे। ICMR के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा क‍ि राष्ट्रीय सीरो सर्वे में 6-17 वर्ष की आयु के बच्चे शामिल थे। 6-9 वर्ष आयु वर्ग के लोगों में यह 57.2 फीसद था; 10-17 वर्षों में, यह 61.6 फीसद था; 18-44 वर्षों में, यह 66.7 फीसद था। 45-60 वर्षों में यह 77.6 फीसद था।

ICMR के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने सीरो सर्वे के र‍िजल्‍ट जारी करते हुए बताया कि सर्वे में सामने आया कि देश की दो-तिहाई आबादी में कोरोना एंटीबॉडी मिली है। अभी भी 40 करोड़ आबादी पर कोरोना का खतरा है। सर्वे में शामिल 6 से 17 साल के आधे से ज्यादा बच्चों में भी एंटीबॉडी पाई गई है। इसका मतलब हुआ कि दूसरी लहर में संक्रमण ने बच्चों को भी प्रभावित किया है।

सीरो सर्वे में में क्या आया सामने 

- शहरी इलाकों में रहने वाले 69.6 फीसद और ग्रामीण इलाकों में रहने वाले 66.7 फीसद में एंटीबॉडी थी।          - 6 से 9 साल के 57.2 फीसद और 10 से 17 साल के 61.6 फीसद बच्चों में कोरोना की एंटीबॉडी मिली।         

- 18 से 44 साल के 66.7 फीसद, 45 से 60 साल के 77.6 फीसद और 60 साल से ऊपर के 76.7 फीसद में एंटीबॉडी मिली। 

- सर्वे में शामिल 69.2 फीसद महिलाओं और 65.8 फीसद पुरुषों में कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडी मिली।

कोरोना के ख‍िलाफ वैक्सीन है कारगर

सीरो सर्वे में शामिल 12,607 लोग ऐसे थे, जिन्होंने वैक्सीन नहीं ली थी। 5,038 ऐसे थे जिन्हें एक खुराक लगी थी और 2,631 को दोनों खुराक लग चुकी थी। सर्वे में सामने आया कि वैक्सीन की दोनों डोज लेने वाले 89.8 फीसद में एंटीबॉडी पाई गई। वहीं, एक डोज लेने वाले 81 फीसद में एंटीबॉडी मिली, जबकि, जिन्होंने वैक्सीन नहीं ली थी, ऐसे 62.3 फीसद लोगों में ही एंटीबॉडी मिली। ऐस में ऐसा माना जा सकता है कि वैक्सीन लेने के बाद एंटीबॉडी बन रही है।