साउथ दिल्ली के आवासीय इलाकों में प्रमुख मार्गों पर तीन विश्वविद्यालय के स्टूडेंट्स ने की रिसर्च, रिजल्ट चौंकाने वाले


आवासीय इलाकों से गुजरने वाले 13 व्यस्त मार्गों पर मापा गया ध्वनि का स्तर।

जामिया जम्मू कश्मीर विवि और तेहरान विवि के शोधार्थियों ने आवासीय इलाकों से गुजरने वाले प्रमुख मार्गो पर ध्वनि का स्तर मापा। परिणाम चौंकाने वाले थे। सीपीसीबी के निर्देशों के तहत आवासीय इलाकों में रात के समय ध्वनि का स्तर 45 डेसीबल और दिन 55 डेसीबल होना चाहिए।

नई दिल्ली, । जामिया, जम्मू कश्मीर विवि और तेहरान विवि के शोधार्थियों ने दक्षिणी दिल्ली में आवासीय इलाकों से गुजरने वाले प्रमुख मार्गो पर ध्वनि का स्तर मापा। परिणाम चौंकाने वाले थे। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के निर्देशों के तहत आवासीय इलाकों में रात (रात दस बजे से सुबह छह बजे तक)के समय ध्वनि का स्तर 45 डेसीबल और दिन (सुबह छह बजे से रात दस बजे तक) में 55 डेसीबल होना चाहिए। लेकिन चार जगहों-आश्रम चौक, सब्ज बुर्ज, मूलचंद और लोदी रोड पर ध्वनि का स्तर औसत से कहीं अधिक मापा गया। आश्रम पर तो यह 81 डेसीबल तक मापा गया।

इन जगहों पर मापा गया

- आश्रम चौक

- आश्रम बस स्टैंड (हरी नगर)

- जंगपुरा

- भोगल

- निजामुद्दीन

- सब्ज बुर्ज

- लाला लाजपत राय रोड (फ्लाईओवर के नीचे)

- लाला लाजपत राय रोड (एचपी पेट्रोल पंप के पास)

- डिफेंस कालोनी फ्लाईओवर (सी ब्लाक के पास)

- लाजपत नगर 2

- मूलचंद फ्लाईओवर के नीचे

- लाला लाजपत राय मार्ग (आइबीएस अस्पताल के पास)

- महात्मा गांधी रोड (नेहरू नगर में फुटओवर ब्रिज के नीचे)कब मापा गया ध्वनि का स्तर- दिन और रात में।

- सुबह छह बजे से रात दस बजे तक एवं रात दस बजे से सुबह छह बजे तक।

चिन्हित मार्गों की खासियत

- 30 फीसद इलाका घनी आबादी वाला।

- 14 फीसद सार्वजनिक स्थल।

- 26 फीसद पार्क।

- बाकी 30 फीसद में मध्यम आबादी।

आश्रम चौक- व्यस्त समय में 81.8 डेसीबल तक ध्वनि का स्तर मापा गया।

- इंटरसेक्शन के चारों तरफ 74 डेसीबल तक रहा ध्वनि स्तर।

- चिन्हित जगह से 83.5 मीटर दूर तक ध्वनि का स्तर अधिक मिला।(परिणाम: वाहनों के अधिक दवाब के चलते ध्वनि स्तर बढ़ा मिला।)

सब्ज बुर्ज- यहां अधिकतम 74 डेसीबल तक ध्वनि का स्तर मापा गया।

- 4.65 मीटर ऊंचाई तक 74 डेसीबल तक ध्वनि।(परिणाम: वाहन चालकों द्वारा हार्न का अधिक प्रयोग करने के चलते ध्वनि का स्तर बढ़ा।)

लोदी रोड- सड़क के मध्य में 80 डेसीबल तक ध्वनि का स्तर।

- चिन्हित जगह से 184.4 मीटर दूर भी ध्वनि का स्तर 74 डेसीबल तक पाया गया।

- थ्रीडी मैपिंग से पता चला कि 6.8 मीटर ऊंचाई तक ध्वनि का स्तर 74 डेसीबल था।(परिणाम: इंटरसेक्शन की वजह से ध्वनि ज्यादा होती है।)मूलचंद क्रास सेक्शन- यहां 80 डेसीबल तक ध्वनि मापी गई।

- 201 मीटर दूरी तक भी 70 डेसीबल तक ध्वनि।

- 3 मीटर से अधिक की ऊंचाई तक भी ध्वनि का स्तर 80 डेसीबल तक।

- थ्रीडी मैपिंग से पता चला कि नजदीक स्थित मूलचंद अस्पताल भी उच्च ध्वनि की जद में।(परिणाम: फ्लाईओवर, अंडरपास, एलिवेटेड मेट्रो लाइन की मौजूदगी के चलते ज्यादा शोर होता है।)

शोध करने वाली टीम

- डा परवेज आलम

- बाबा गुलाम शाह बादशाह विवि, जम्मू कश्मीर।

- प्रो कफील अहमद- जामिया मिल्लिया इस्लामिया।

- अफजल हुसैन खान- सऊदी अरब।

- नदीम के खान और मोहम्मद हादी- तेहरान विवि।