पीएम मोदी और राहुल गांधी ने मलंकारा ऑर्थोडॉक्स सीरियन चर्च ऑफ इंडिया के प्रमुख के निधन पर जताया दुख

 


बेसिलियोस मार्थोमा पौलोज द्वितीय 74 साल के थे, पठानमथिट्टा के एक निजी अस्पताल में सुबह 2.35 बजे अंतिम सांस ली

बेसिलियोस मार्थोमा पौलोज द्वितीय के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर अपना दुख व्यक्त किया। उन्होंने लिखा इंडियन ऑर्थोडॉक्स चर्च के सर्वोच्च के प्रमुख परम पावन मोरन मार बेसिलियोस मार्थोमा पॉलोस द्वितीय के निधन से दुखी हूं।

पठानमथिट्टा, एएनआइ। पूर्व के कैथोलिक और मलंकारा ऑर्थोडॉक्स सीरियन चर्च ऑफ इंडिया (एमओएससी) के प्रमुख बेसिलियोस मार्थोमा पौलोज द्वितीय का लंबी बीमारी के बाद सोमवार सुबह निधन हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उनके निधन पर दुख व्यक्त किया है।

बेसिलियोस मार्थोमा पौलोज द्वितीय के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर दुख व्यक्त किया। उन्होंने लिखा इंडियन ऑर्थोडॉक्स चर्च के सर्वोच्च के प्रमुख परम पावन मोरन मार बेसिलियोस मार्थोमा पॉलोस द्वितीय के निधन से दुखी हूं। वह अपने पीछे सेवा और करुणा की समृद्ध विरासत छोड़ गए हैं। दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं ऑर्थोडॉक्स चर्च के सदस्यों के साथ हैं। आरआईपी।

कांग्रेस नेता और लोकसभा सांसद राहुल गांधी ने भी बेसिलियोस मार्थोमा पौलोज द्वितीय के निधन पर अपना दुख जाहिर किया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा मलंकारा ऑर्थोडॉक्स सीरियन चर्च ऑफ इंडिया के सर्वोच्च प्रमुख परम पावन बेसिलियोस मार्थोमा पॉलोज II के निधन पर मेरी संवेदना। धार्मिक प्रमुख के रूप में उनके योगदान के साथ-साथ बेघरों के लिए उनके मानवीय कार्यों के लिए उन्हें याद किया जाएगा।

बेसिलियोस मार्थोमा पौलोज द्वितीय 74 साल के थे उन्होंने पठानमथिट्टा के एक निजी अस्पताल में सुबह 2.35 बजे अंतिम सांस ली। उनका दिसंबर 2019 से फेफड़ों के कैंसर का इलाज चल रहा था और इस साल फरवरी में उन्हें कोरोना हो गया था। मेडिकल बुलेटिन में कहा गया कि वह वायरस के संक्रमण से उबर गए, लेकिन फेफड़ों की जटिलताओं के बाद स्वास्थ्य की स्थिति खराब हो गई। मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक रविवार की सुबह से ही उनकी क्लीनिकल हालत बेहद नाजुक हो गई थी।

उनके पार्थिव शरीर को सोमवार शाम 7 बजे तक परुमला चर्च में सार्वजनिक प्रदर्शनी के लिए रखा जाएगा और अंतिम संस्कार मंगलवार शाम 5 बजे तक देवलोकम, कोट्टायम में एमओएससी मुख्यालय में किया जाएगा। बेसिलियोस मार्थोमा डिडिमस I के त्याग के बाद नवंबर 2010 में उन्हें पूर्व के आठवें कैथोलिक और मलंकारा चर्च के रूप में सिंहासन पर बैठाया गया था।