जगन्नाथ मंदिर से दो महिलाओं ने चोरी की अष्टधातु की मूर्तियां, पुलिस जांच में जुटी

 


जगन्नाथ मंदिर से दो महिलाओं ने राधा-कृष्ण की अष्टधातु की मूर्तियां चोरी कर ली।

महिलाएं मंदिर से मूर्तियां अपने बैग में रख कर चली गईं। शाम को पुजारी जब पूजा के लिए पहुंचे तब चोरी की बात पता चली। इसके बाद मंदिर प्रबंधन को बताई। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

नई दिल्ली/फरीदाबाद । सेक्टर-15-ए स्थित जगन्नाथ मंदिर से दो महिलाओं ने राधा-कृष्ण की अष्टधातु की मूर्तियां चोरी कर ली। मूर्तियां चोरी करते हुए महिलाएं मंदिर के सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गईं। मंदिर प्रबंधन की तरफ से पुलिस को इस संबंध में सूचना दे दी है। पुलिस छानबीन में जुट गई है। मंदिर के प्रधान सेवक डा. पीकेएमके दास ने बताया कि दिन में दोपहर एक से शाम पांच तक मंदिर बंद रहता है।

शाम को दो महिलाओं ने दर्शन करने की कही बात

शाम करीब चार दो बजे महिलाएं मंदिर में आईं। मंदिर के सुरक्षा कर्मियों ने उन्हें बताया कि अभी मंदिर बंद है। महिलाओं ने कहा कि वे बाहर से ही दर्शन करके वापस चली जाएंगी। सुरक्षा कर्मियों ने उन्हें अंदर जाने दिया। परिसर में बाहर की तरफ एक छोटा मंदिर है, जिसमें राधा-कृष्ण की अष्टधातु की छोटी मूर्तियां रखीं गई थीं।

बैग में मूर्तियां रख कर चली गई

महिलाओं ने दोनों मूर्तियां अपने बैग में रख लीं और चली गईं। शाम को जब पुजारी छोटे मंदिर में पूजा के लिए पहुंचा तो उसे मूर्तियां गायब मिलीं। पुजारी ने यह बात तुरंत मंदिर प्रबंधन को बताई। इसके बाद सीसीटीवी कैमरों की फुटेज देखी गई। उसमें दो महिलाएं मंदिर में आती और मूर्तियों को बैग में रखकर ले जाते हुए दिखाई दीं।

नहीं हो पाई महिलाओं की पहचान

महिलाओं की पहचान नहीं हो पाई। गेट पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में महिलाएं कार की पिछली सीट से उतरती दिखाई दीं। जब तक वे मूर्ति लेकर वापस नहीं गईं चालक मंदिर के गेट पर कार में उनका इंतजार करता रहा। मंदिर प्रबंधन ने पुलिस को शिकायत दे दी है। पुलिस का कहना है कि मूर्ति चोरी करने वाली महिलाओं की तलाश की जा रही है। कपड़ों से महिलाएं अच्छे घर की प्रतीत हो रही हैं। उनके द्वारा मूर्ति चोरी करने का उद्देश्य भी स्पष्ट नहीं हो पाया है। दोनों मूर्तियां करीब दस साल पहले एक परिवार ने मंदिर को अर्पित की थीं।