दिल्ली से सटे सोनीपत में भी सोमवार को खत्म हो रहा है लॉकडाउन, आज हो सकता है कई और छूट का एलान

 


सोनीपत में भी सोमवार को खत्म हो रहा है लॉकडाउन, आज हो सकता है कई और छूट का एलान

सोनीपत जिले में करीब पांच महीने बाद एक भी कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिला है। वहीं शनिवार को पांच मरीज ठीक भी हुए हैं। हालांकि जिले में अभी भी एक्टिव केस की संख्या 26 है।

सोनीपत,  संवाददाता। दिल्ली से सटे हरियाणा के सोनीपत जिले में कोरोना वायरस संक्रमण पूरी तरह काबू में आ गया है। इसका ताजा उदाहरण यह है कि सोनीपत जिले में करीब पांच महीने बाद एक भी कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिला है। वहीं, शनिवार को पांच मरीज ठीक भी हुए हैं। हालांकि जिले में अभी भी एक्टिव केस की संख्या 26 है। एक महीने पहले तक जहां कोरोना कहर बरसा रहा था, वहीं, पांच महीने बाद कोई केस न मिलने से अधिकारियों व आमजन ने भी राहत की सांस ली है। जिले के 300 से ज्यादा गांव कोरोना मुक्त हो चुके हैं, जहां कोई एक्टिव केस भी नहीं है। ऐसे में लोगों को उम्मीद है कि सोमवार से लॉकडाउन में और छुट मिलेगी, जिससे नौकरीपेशा लोगों को छूट मिले।

कोरोना की दूसरी लहर शुरू हुई तो जिले में जनवरी के पहले सप्ताह में संक्रमित मिलने शुरू हुए थे जिसके बाद केस मार्च में बढ़ने शुरू हुए थे तो अप्रैल में कोरोना संक्रमितों का ग्राफ काफी ऊपर पहुंच गया था। इसके बाद मई की शुरुआत में जिले में प्रतिदिन 1200 तक कोरोना संक्रमित मिल रहे थे। मई में कोरोना के एक्टिव मरीज भी साढ़े सात हजार से ऊपर पहुंच गए थे। इस तरह कोरोना की दूसरी लहर पीक पर होने से शहर की सभी कालोनियों में कोरोना के केस थे।

जिले में केवल दो गांव मौजमनगर व भादी ही ऐसे बचे थे, जिनमें कोरोना का कोई केस नहीं था। जिले के अन्य गांवों में हालात काफी खराब थे। एक ही गांव में कोरोना के एक्टिव केस 50-60 तक पहुंच गए थे, लेकिन अब कोरोना का संक्रमण का प्रभाव धीरे-धीरे कम होना शुरू हुआ तो कोरोना संक्रमित मिलने की संख्या 3-4 तक सिमट गई। अब शनिवार को एक जिले में एक भी केस सामने नहीं आया।

ललित सिवाच (उपायुक्त, सोनीपत) का कहना है कि कोरोना संक्रमण काफी कम हो गया है, उसके बाद भी लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए क्योंकि पिछली बार लापरवाही बरतने के कारण कोरोना के केस दोबारा से बढ़ गए थे, इसलिए सभी को लगातार कोरोना नियमों का पालन करते रहना चाहिए और घर से बाहर निकलने पर मास्क लगाना चाहिए तो शारीरिक दूरी का पालन भी जरूर करना चाहिए। अगर लोगों ने एहतियात नहीं बरती तो इस लापरवाही से परेशानी बढ़ सकती है।