क्यों राकेश टिकैत के खिलाफ वाल्मीकि समाज ने खोल रखा है मोर्चा, अब निकाली पुतले की शव यात्रा

 


रास्ते में किया राकेश टिकैत के पुतले का अंतिम संस्कार

भाजपा नेता अमित वाल्मीकि के स्वागत के दौरान यूपी गेट पर प्रदर्शनकारियों के हमले के विरोध में राकेश टिकैत के पुतले की शव यात्रा लेकर जा रहे वाल्मीकि समाज के लोगों को पुलिस व पीएसी ने रास्ते में ही रोक लिया।

गाजियाबाद । यूपी गेट पर कृषि कानूनों के खिलाफ धरने पर बैठे भारतीय किसान यूनियन(टिकैत) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश के खिलाफ वाल्मीकि समाज में आक्रोश है। वाल्मीकि समाज के लोगों ने सोमवार को नवयुग मार्केट स्थित वाल्मीकि पार्क से राकेश टिकैत के पुतले की शव यात्रा निकाली। दरअसल, 30 जून को भाजपा के प्रदेश मंत्री अमित वाल्मीकि के यूपी गेट पर स्वागत के दौरान कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने भाजपाइयों और वाल्मीकि समाज के लोगों पर हमला कर दिया था। अमित वाल्मीकि के काफिले पर हमले से वाल्मीकि समाज नाराज है और राकेश टिकैत के खिलाफ पिछले कुछ दिनों से मोर्चा खोले हुए हैं।

पुलिस-पीएसी ने वाल्मीकि समाज के लोगों को कलक्ट्रेट जाने से रोका

भाजपा नेता अमित वाल्मीकि के स्वागत के दौरान यूपी गेट पर प्रदर्शनकारियों के हमले के विरोध में राकेश टिकैत के पुतले की शव यात्रा लेकर जा रहे वाल्मीकि समाज के लोगों को पुलिस व पीएसी ने रास्ते में ही रोक लिया। आरोप है कि न्याय की मांग को एकजुट हुए लोगों से पुतला छीनने की कोशिश की गई। मगर प्रदर्शनकारियों ने चालाकी से रास्ते में ही विधि-विधान से राकेश टिकैत के पुतले का अंतिम संस्कार कर दिया।कलक्ट्रेट पर हंगामे की आशंका को देखते हुए पुलिस प्रशासन पहले से ही चौकन्ना था और नवयुग मार्केट स्थित महर्षि वाल्मीकि पार्क में चल रहे धरने पर पहले से ही आसपास के कई थानों की पुलिस फोर्स पहुंच गई थी। प्रदर्शनकारी कलक्ट्रेट के लिए निकले तो पीएसी भी बुला ली गई और प्रदर्शनकारियों को दुर्गा भाभी चौक पर ही रोक दिया गया।

वाल्मीकि समाज के लोगों का कहना है कि पुलिस प्रशासन ने मनमानी की है, मगर वे लोग पीछे नहीं हटेंगे। उन पर हमला करने वालों की गिरफ्तारी तक यह धरना प्रदर्शन जारी रहेगा