उन पूर्वोत्तर राज्यों में कोरोना का हाल जहां के मुख्यमंत्रियों से आज प्रधानमंत्री कर रहें हैं बात

 


पूर्वोत्तर राज्यों में ये है कोरोना का हाल जहां के मुख्यमंत्रियों से आज प्रधानमंत्री कर रहें हैं बात

देश में हर रोज आने वाले कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी दर्ज की जा रही है। लेकिन पूर्वोत्तर राज्यों में संक्रमण दर बढ़ने से चिंता बरकरार है। इस क्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से चर्चा कर हालात की समीक्षा करेंगे।

नई दिल्ली, एजेंसियां। देश के पूर्वोत्तर राज्यों असम , नगालैंड , त्रिपुरा , सिक्किम , मणिपुर , मेघालय , अरुणाचल प्रदेश और मिजोरम  में कोरोना संक्रमण थमने के बजाए बढ़ रहा है। इन आठ राज्यों में चिंताजनक हालात को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संबंधित मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा कर रहे हैं। 

मिजोरम में मिले 519 नए संक्रमित

मिज़ोरम सरकार के सूचना और जनसंपर्क विभाग ने आज बताया कि राज्य में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 519 नए मामले सामने आए और 112 संक्रमितों की मौत हो गई। यहां अब तक पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 24,702 है जिसमें 4,787 सक्रिय मामले हैं। वहीं 19,803 डिस्चार्ज हो चुके हैं।

असम में हैं 19,594 सक्रिय मामले

सोमवार को असम में 2,575 नए कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई वहीं 37 लोगों की मौत हो गई। इसके बाद राज्य में अब तक हुए संक्रमितों की मौत का कुल आंकड़ा 4,865 है। वहीं यहां अभी सक्रिय मामलों का आंकड़ा 19,594 है और रिकवर होने वालों कुल संख्या 5,10,432 है।

मणिपुर में 7520 हैं सक्रिय मामले

मणिपुर (Manipur) में सोमवार को 890 नए कोरोना संक्रमित मिले और 15 लोगों की मौत हो गई वहीं 590 लोग स्वस्थ हुए हैं। यहां रिकवरी रेट 88.79 फीसद दर्ज की गई है। फिलहाल राज्य में कोरोना संक्रमण के सक्रिय मामलों का आंकड़ा 7520 है। इससे मरने वालों की संख्या 1287 हो गई है।

17 जुलाई तक त्रिपुरा में है कर्फ्यू 

त्रिपुरा में संक्रमण के मामलों में कमी न देखते हुए 17 जुलाई तक कोविड कर्फ्यू जारी रहने का ऐलान किया गया है। इस बीच यहां डेल्टा प्लस वैरिएंट होने की बात को सरकार की ओर से खारिज कर दिया गया। सोमवार को बयान जारी कर भारत सरकार द्वारा बताया गया कि त्रिपुरा में डेल्टा प्लस का एक भी मामला नहीं है। इसमें बताया गया, 'त्रिपुरा में डेल्टा प्लस वैरिएंट के मामले बढ़ने की खबर मिली। अप्रैल और मई 2021 के बीच 152 सैंपल के नतीजे पॉजिटिव आए और इन्हें जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए NIBMG कल्याणी भेजा गया था। इसमें डेल्टा प्लस के मामले नहीं थे। इसमें 3 सैंपल B.1.1.7 से संक्रमित पाए गए वहीं 11 सैंपल B.1.617.1 (कप्पा) और 138 B.1.617.2 (डेल्टा) से संक्रमित थे।'

शोधकर्ता का कहना है कि पहली लहर के दौरान पूर्वोत्तर राज्यों में संक्रमण कम था लेकिन दूसरी लहर में ऐसा नहीं रहा। इनका कहना है कि देश भर में कम मामले आ रहे हैं लेकिन इन राज्यों में आर फैक्टर के कारण स्थिति खराब है। आर फैक्टर से संक्रमण फैलने का पता चलता है दूसरे शब्दों में एक संक्रमित कितने और लोगों को संक्रमण के चपेट में ले सकता है यह इसी फैक्टर से पता चलता है। त्रिपुरा में आर-फैक्टर 1.15, अरुणाचल प्रदेश में 1.14, मणिपुर में 1.07, मेघालय में 0.92, सिक्किम में 0.88 और असम एवं मिजोरम में 0.86 है।

मंगलवार सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, 24 घंटों में 37,154 नए मामले आए हैंं। अभी देश में कोरोना संक्रमण के सक्रिय मामलों का आंकड़ा 4,50,899 है जो देश के कुल मामलों का 1.46 फीसद है।