बीमार कल्याण सिंह को बेहतर इलाज मुहैया कराने के लिए पीएम मोदी ने सीएम योगी से की बात: सूत्र


कल्याण सिंह लगभग दो सप्ताह से अस्वस्थ महसूस कर रहे थे

रविवार शाम को संजय गांधी पीजीआइ ने एक आधिकारिक बयान में बताया कि कल्याण सिंह लगभग दो सप्ताह से अस्वस्थ महसूस कर रहे थे। उनका ब्लड प्रेशर और पल्स रेट सामान्य है लेकिन वह पूरी तरह से होश में नहीं है।

नई दिल्ली, एएनआइ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को यह सुनिश्चित करने के लिए फोन किया कि राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को अच्छी चिकित्सा देखभाल उपलब्ध कराई जाए। सूत्रों ने यह जानकारी एएनआइ को दी। सूत्रों ने एएनआई को बताया कि पीएम मोदी ने कल्याण सिंह के बेटे राजवीर को भी उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेने के लिए फोन किया था।

एक आधिकारिक के बयान के अनुसार, कल्याण सिंह जो उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं, उनको रविवार शाम लखनऊ में संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के आइसीयू में भर्ती कराया गया था। सूत्र ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के बेटे राजवीर को उनके स्वास्थ्य के बारे में जानने के लिए बुलाया। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी फोन किया, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री को सर्वोत्तम चिकित्सा देखभाल उपलब्ध कराई जाए।

रविवार शाम को संजय गांधी पीजीआइ ने एक आधिकारिक बयान में बताया कि कल्याण सिंह लगभग दो सप्ताह से अस्वस्थ महसूस कर रहे थे। उनका ब्लड प्रेशर और पल्स रेट सामान्य है लेकिन वह पूरी तरह से होश में नहीं है। उनकी मौजूदा बीमारियों को ध्यान में रखते हुए उन्हें इंटेंसिव केयर यूनिट की क्रिटिकल केयर मेडिसिन में रखा गया है।

शनिवार रात कल्याण सिंह को शरीर में सूजन की शिकायत के बाद लखनऊ के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जांच में यूरिया व करटिनिन का स्तर बढ़ा हुआ था। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को देखने के लिए यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ डॉ राममनोहर लोहिया अस्पताल पहुंचे। इस दौरान सीएम योगी ने डॉक्टरों से तबीयत के बारे में बात की और उन्हें निर्देश भी दिए।आपकों बता दें कि 1991 में कल्याण सिंह यूपी के मुख्य मंत्री बने थे और उनके नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी पहली बार उत्तर प्रदेश में बहुमत के साथ सत्ता में आई थी।