चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने राहुल गांधी व प्रियंका गांधी से की मुलाकात, अटकलें तेज


राहुल गांधी से मिले प्रशांत किशोर (फाइल फोटो)

पोल रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने मंगलवार को दिल्ली में कांग्रेस नेता राहुल गांधी से उनके आवास पर मुलाकात की। बता दें कि इस बैठक में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा केसी वेणुगोपाल और पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत संघ पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता भी मौजूद थे।

दिल्ली, एएनआई। चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने मंगलवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मुलाकात की। इसके अलावा उन्होंने कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल से भी मीटिंग की। प्रशांत किशोर ने राहुल गांधी के दिल्ली स्थित आवास पर जाकर मुलाकात की। इस मीटिंग के दौरान प्रियंका गांधी और केसी वेणुगोपाल भी मौजूद थे। उनकी इस मुलाकात के बाद से ही राजनीतिक अटकलें लगनी शुरू हो गई हैं। बता दें कि पंजाब कांग्रेस की चुनावी रणनीति तैयार करने की जिम्मेदारी पहले ही प्रशांत किशोर के पास है। ऐसे में प्रशांत किशोर की मुलाकात को अब उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों के अगले साल होने वाले चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है।

लगाए जा रहे ये कयास

पोल रणनीतिकार प्रशांत किशोर और कांग्रेस नेता राहुल गांधी की मुलाकात पर विभिन्न प्रकार के कयास लगाए जा रहे हैं। ऐसी अटकलें हैं कि बैठक में 2022 के महत्वपूर्ण उत्तर प्रदेश चुनावों की रणनीति पर चर्चा हुई होगी। विधानसभा चुनाव 2022 प्रत्येक राजनीतिक पार्टियों के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। ऐसे में प्रशांत किशोर और कांग्रेस नेता राहुल गांधी का एक साथ बैठक में शामिल होना विधानसभा चुनावों की तैयारीयां और रणनीति की तरफ इशारा करता है। बता दें कि अगले साल की शुरुआत में होने वाले राज्य चुनावों से पहले कांग्रेस आलाकमान कांग्रेस विधायक नवजोत सिंह सिद्धू और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बीच तनाव को कम करने के लिए कई दिनों से प्रयास कर रही है। केंद्रीय पार्टी नेतृत्व ने भी पंजाब संकट और आपसी कलह के समाधान के लिए एक पैनल का गठन किया था।

 पिछले हफ्ते पंजाब के सीएम से मिले थे

पिछले हफ्ते पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दिल्ली में सीएम के आवास कपूरथला हाउस में प्रशांत किशोर से मुलाकात की थी। पोल रणनीतिकार प्रशांत किशोर, जिन्हें अमरिंदर सिंह ने प्रधान सलाहकार नियुक्त किया था, हाल ही में पश्चिम बंगाल सहित कुछ राज्यों में विधानसभा चुनावों के दौरान पंजाब आए थे। हालाँकि, परिणामों के तुरंत बाद, उन्होंने एक राजनीतिक रणनीतिकार के रूप में अपने पद से हटने का इरादा व्यक्त किया था। यह बैठक भी चुनावी रणनीतिकार की 21 जून को दो सप्ताह में दूसरी बार राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के शरद पवार के साथ बातचीत के कुछ दिनों बाद हुई है।

यह बैठक अगले साल की शुरुआत में होने वाले राज्य चुनावों से पहले पंजाब कांग्रेस में अंदरूनी कलह की खबरों के बीच भी हो रही है। मीडिया रिपोर्टों से पता चलता है कि आगामी विधानसभा चुनावों से पहले पंजाब में पार्टी की उथल-पुथल के इर्द-गिर्द बातचीत हुई।