कंधार पर कब्जे की फिराक में तालिबान, अन्य इलाकों में लड़ाई तेज

 


कंधार पर कब्जे की फिराक में तालिबान, अन्य इलाकों में लड़ाई तेज

अफगान सेना से 700 ट्रक बख्तरबंद वाहन भी कब्जाए। डेढ़ सौ सैनिक समर्पण कर आतंकी संगठन में हुए शामिल। आतंकियों की साफ मंशा है कि किसी भी कीमत पर पूरे सूबे को अपने कब्जे में ले लिया जाए।

कंधार, एएनआइ। अफगानिस्तान में सुरक्षा बल और तालिबान के बीच लड़ाई निर्णायक दौर में चल रही है। अफगान सुरक्षा बलों की कोशिश के बाद भी तालिबान की ताकत तेजी से बढ़ रही है। पिछले 24 घंटे में कंधार के महत्वपूर्ण जिले पंजवेई पर तालिबान ने कब्जा कर लिया है। आतंकियों की साफ मंशा है कि किसी भी कीमत पर पूरे सूबे को अपने कब्जे में ले लिया जाए।

दक्षिणी प्रांत में पंजवेई पर यह कब्जा अमेरिका और नाटो सेना के बगराम हवाई अड्डा खाली करने के दो दिन बाद हुआ है। इस हवाई अड्डे के खाली करने के बाद तालिबान के हमले तेज हो गए हैं। बगराम हवाई अड्डा सैन्य दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है। अफगान सेना ने कहा है कि यहीं से वह आंतकवाद के खिलाफ लड़ाई जारी रखेगा। अफगान सेना ने हवाई अड्डे पर राडार सक्रिय कर दिया है। ताखर और बदख्शान में भी तालिबान ने दो और जिलों पर कब्जा कर लिया है।

यहां यवान जिले पर कब्जे के दौरान 150 अफगान सैनिक आत्मसमर्पण करके तालिबानी आतंकियों के साथ शामिल हो गए हैं।आइएएनएस के अनुसार इंटरनेट मीडिया के अध्ययन से चौंकाने वाली जानकारी मिली है। तालिबान ने जून माह में ही अफगान सुरक्षा बलों से करीब सात सौ ट्रक और बख्तरबंद वाहनों को छीनकर अपने कब्जे में ले लिया है। इनमें काफी संख्या में टैंक भी हैं।

पाकिस्तानी आतंकी भी तालिबान के साथ

एएनआइ के अनुसार अफगान सेना के मेजर जनरल हिबातुल्लाह अलीजाई ने कहा है कि तालिबानी आतंकियों के साथ पाकिस्तानी भी अफगान सेना से युद्ध कर रहे हैं। ये आतंकी ज्यादातर पंजाब राज्य से हैं। इनमें से सैकड़ों आतंकी अभी तक मारे जा चुके हैं।आइएएनएस के अनुसार कुंदुज प्रांत में अफगान सेना के हवाई हमले में 15 तालिबानी आतंकवादी मारे गए।

सितंबर के बाद अफगानिस्तान में विदेशी सैनिक मिले तो उन्हें खतरा

आइएएनएस के अनुसार बीबीसी से बात करते हुए तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कहा है कि समझौते के अनुसार सिंतबर के बाद विदेशी सैनिक अफगानिस्तान में मिले तो उन पर हमले का खतरा रहेगा। अमेरिका ने दोहा समझौते का उल्लंघन किया तो तालिबान कोई भी निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र होगा।

अफगानिस्तान से वार्ता चुनौतियों को लेकर, हथियार आपूर्ति पर नहीं

एएनआइ के अनुसार रूस ने कहा है कि पिछले सप्ताह अफगानिस्तान के एनएसए से मुलाकात में वहां की चुनौतियों के संबंध में वार्ता हुई थी। हथियारों की आपूर्ति करने के संबंध में कोई बातचीत नहीं हुई है। ज्ञात हो कि अफगानिस्तान के एनएसए हमदुल्लाह मोहिब रूस गए थे, जहां उनकी वार्ता वहां के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) निकोलाइ पात्रुशेव से हुई थी।