एम्स में नया मातृ व शिशु केंद्र शुरू, जल्द मिलेगी सर्जरी और भर्ती की सुविधा


मातृ व शिशु ब्लाक का निर्माण 2014 में शुरू हुआ था।

एम्स के नए ओपीडी ब्लाक के पास तैयार किए गए इस आठ मंजिला नया केंद्र में 427 बेड व 12 आपरेशन थियेटर व डे-केयर की सुविधा होगी। एम्स का कहना है सेंटर में शिशु व स्त्री रोग विभाग की ओपीडी सेवा शुरू की गई है।

नई दिल्ली,  संवाददाता। एम्स में महिलाओं व बच्चों के इलाज के लिए अलग मातृ व शिशु सेंटर का निर्माण किया गया है। इस नवनिर्मित मातृ व शिशु ब्लाक को इलाज के लिए खोल दिया गया। एम्स के निदेशक डा. रणदीप गुलेरिया ने सोमवार को इस सेंटर में ओपीडी सेवा की शुरुआत की। इससे महिलाओं व बच्चों के इलाज में सुविधा होगी। हालांकि, अभी इस सेंटर में सर्जरी व मरीजों को भर्ती करने की सुविधा शुरू नहीं हुई है, लेकिन जल्दी ही ये सुविधाएं भी शुरू की जाएंगी।

2014 से हो रहा था मातृ व शिशु ब्लाक का निर्माण

मातृ व शिशु ब्लाक का निर्माण 2014 में शुरू हुआ। एम्स के नए ओपीडी ब्लाक के पास तैयार किए गए इस आठ मंजिला नया केंद्र में 427 बेड व 12 आपरेशन थियेटर व डे-केयर की सुविधा होगी। एम्स प्रशासन का कहना है कि अभी इस सेंटर में शिशु व स्त्री रोग विभाग की ओपीडी सेवा शुरू की गई है। इसलिए अब इन विभागों की ओपीडी मुख्य अस्पताल में नहीं होगी। नए सेंटर की ओपीडी में मरीजों के बैठने की पर्याप्त व्यवस्था की गई है।

ब्लाक में सर्वाइकल कैंसर की रोकथाम के लिए स्क्रीनिंग की भी होगी सुविधा

इस ब्लाक में महिलाओं के कैंसर का भी इलाज होगा। इसके अलावा सर्वाइकल कैंसर की रोकथाम के लिए स्क्रीनिंग की भी सुविधा होगी। मरीजों के आवागमन के लिए लिफ्ट व एस्केलेटर भी लगाए गए हैं। मौजूदा समय में एम्स के मुख्य अस्पताल में स्त्री रोग विभाग के लिए सिर्फ चार आपरेशन थियेटर है। जबकि नए सेंटर में 12 हैं। इससे महिला मरीजों को सर्जरी के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा।