मनी लॉन्ड्रिंग मामले में नामी आटा कंपनी के CMD गिरफ्तार, 9 जुलाई तक प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में

 


मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कंपनी का CMD गिरफ्तार, प्रवर्तन निदेशालय ने की कार्रवाई

प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में एक कंपनी के चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर को गिरफ्तार कर लिया। रविवार को मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत हुई इस गिरफ्तारी से पहले ED ने कृष्ण कुमार के 9 ठिकानों पर छापा मारा था और कई संदिग्ध दस्तावेज व डिजिटल साक्ष्य जब्त किए।

 नई दिल्ली, प्रेट्र। प्रवर्तन निदेशालय ने सोमवार को जानकारी दी कि दिल्ली स्थित एक बड़ी कंपनी के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर केवल कृष्ण कुमार  को मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद केवल कृष्ण कुमार को रविवार को स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्होंने 9 जुलाई तक ED की हिरासत में भेज दिया गया।रविवार को  मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत हुई इस गिरफ्तारी से  पहले ED ने कृष्ण कुमार के 9 ठिकानों पर छापा मारा था और कई संदिग्ध दस्तावेज व डिजिटल साक्ष्य जब्त किए। 

कंपनी आटा, चावल, बिस्किट और कुकीज बनाती है। दिल्ली की नामी कंपनी के खिलाफ इस साल की शुरुआत में सीबीआई ने 10 बैंकों से 3,269.42 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के आरोप में कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज किया था। इसमें कंपनी के CMD केवल कृष्ण कुमार और डायरेक्टर सिद्धार्थ कुमार और सुनंदा कुमार को नामजद किया था।

सीबीआई ने केवल कृष्ण कुमार के खिलाफ आपराधिक साजिश रचने, धोखाधड़ी और आपराधिक व्यवहार के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की थी। इसी के आधार पर ED मनी लॉन्ड्रिंग की जांच शुरू की थी। उन पर अपनी कंपनियों के जरिए धन की हेराफेरी का आरोप है। गिरफ्तारी के बाद केवल कृष्ण कुमार को रविवार को स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्होंने 9 जुलाई तक ED की हिरासत में भेज दिया गया।  

मामले का खुलासा  2019 के जून माह में फोरेंसिक ऑडिटर्स की रिपोर्ट के जरिए हुआ था। बैंकों से लेनदेन अप्रैल 2013 से मार्च 2017 के बीच किया गया। इस अकाउंट पर 2016 करोड़ रुपये का बकाया है और यह मार्च 2015 में एनपीए बना था। फोरेंसिक रिपोर्ट के मुताबिक, अकाउंट स्टेटमेंट्स और स्टॉक स्टेटस में गड़बड़ी की गई।