इंदौर नगर निगम के कर्मचारी पर ED का शिकंंजा, मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत की कार्रवाई


इंदौर नगर निगम के कर्मचारी पर ED का शिकंंजा, मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत की कार्रवाई

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने इंदौर में मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत नगर निगम के कई कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की। एजेंसी ने बताया कि इसने इंदौर नगर निगम के कर्मचारी मोहम्मद असलम खान व अन्य लोगों पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत कार्रवाई की है।

 नई दिल्ली, एएनआइ। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने इंदौर में मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत नगर निगम के कई कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की। एजेंसी ने बताया कि इसने इंदौर नगर निगम के कर्मचारी मोहम्मद असलम खान व अन्य लोगों पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत कार्रवाई की है। इसके तहत इनकी 1.39 करोड़ रुपये की चल और अचल संपत्तियों को अटैच किया गया है। मनी लॉन्ड्रिंग का अर्थ अवैध तरीके से कमाए गए काले धन को वैध तरीके से कमाए गए धन के रूप में दिखाने से होता है। मनी लॉन्ड्रिंग अवैध रूप से प्राप्त धनराशि को छिपाने का एक तरीका है।

सोमवार को प्रवर्तन निदेशालयने दिल्ली स्थित एक बड़ी आटा कंपनी के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर केवल कृष्ण कुमार  को मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद केवल कृष्ण कुमार को रविवार को स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्होंने 9 जुलाई तक ED की हिरासत में भेज दिया गया।

जब्त किया गया तस्करी का सोना

इससे पहले शनिवार को इंदौर में तस्करी किए जा रहे पांच किलो सोना को बरामद किया गया। डायरेक्टोरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलीजेंस (डीआरआइ) ने स्विट्जरलैंड से तस्करी कर मुंबई लाया गया पांच किलो सोना बरामद किया है। तीन आरोपित सोना लेकर इंदौर के रास्ते भोपाल जा रहे थे। उन्हें इंदौर के मांगलिया क्षेत्र में गिरफ्तार किया गया। चार जुलाई की रात डीआरआइ की टीम ने मुंबई से आ रही कार का लंबी दूरी तक पीछा किया। पहचान हो जाने पर संदिग्ध कार को रोककर तलाशी ली। कार में फर्श पर बिछी मैट के नीचे खासतौर पर बनाया चैंबर मिला। इसमें सोने के आठ बिस्कुट मिले। आरोपियों ने मुंबई से तस्करी का सोना लाने का जुर्म स्वीकार लिया है। साथ में बताया मुंबई में इस सोने की डिलीवरी देने वालों को 2.2 करोड़ का नकद भुगतान किया है।