एक अगस्त से छात्रावास खोलेगा IIT Delhi, जरुरतमंद छात्रों को मिलेगी मदद


आइआइटी की उच्चस्तरीय बैठक में लिया गया निर्णय।

आइआइटी स्टूडेंट वेलफेयर डीन प्रो रीतिका खेरा ने बताया कि कोरोना काल में छात्र घर से रहकर पढ़ाई कर रहे हैं। बहुत से छात्रों के घर पर पढ़ाई का माहौल नहीं। छात्रों के लिए अलग कमरा तक नहीं जहां वे आनलाइन पढ़ाई कर सके।

नई दिल्ली। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली (आइआइटी दिल्ली) अगस्त महीने से छात्रावास खोलेगा। शुरुआती दिनों में सिर्फ जरुरतमंद छात्रों को छात्रावास आवंटित किए जाएंगे। ऐसे छात्रों को प्राथमिकता दी जाएगी जिनके घर पर पढ़ाई की व्यवस्था नहीं है। आइआइटी की एक उच्चस्तरीय बैठक में इस बाबत निर्णय लिया गया है। बहुत जल्द छात्रों को ईमेल भेजकर जानकारी दी जाएगी।

आइआइटी स्टूडेंट वेलफेयर डीन प्रो रीतिका खेरा ने बताया कि कोरोना काल में छात्र घर से रहकर पढ़ाई कर रहे हैं। बहुत से छात्रों के घर पर पढ़ाई का माहौल नहीं। छात्रों के लिए अलग कमरा तक नहीं, जहां वे आनलाइन पढ़ाई कर सके। बहुत से छात्रों ने बिजली, इंटरनेट आदि की दिक्कत भी बताई है।

छात्र बार-बार पत्र लिख कर कर रहे थे छात्रावास बुलाने की मांग

छात्र पत्र लिखकर बार-बार छात्रावास बुलाने की मांग कर रहे थे। इसी के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है कि एक अगस्त से छात्रावास खोले जाएंगे। पहले पहल उन छात्रों को ही बुलाया जाएगा जिनको घर से पढ़ाई में दिक्कत हो रही थी। बकौल रीतिका खेरा, बड़ी संख्या में छात्रों ने टीका लगवा लिया है। कई छात्र संक्रमित भी हुए थे, जिन्हे तीन महीने बाद टीका लगना है। ऐसे में छात्र परिसर में प्रवेश कर सकते हैं। आइआइटी दिल्ली भी परिसर में टीकाकरण करा ही रहा है। छात्र इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।

50 लाख रुपये की मदद

कोरोना काल में आइआइटी ने प्रथम वर्ष से लेकर चतुर्थ वर्ष और एमएससी के छात्रों की आर्थिक मदद की। छात्रों की मदद के लिए बनाए गए फंड में 70 लाख रुपये इक्टठा हुए थे। जिसमें से 50 लाख रुपये की मदद की गई। आइआइटी ने 200 छात्रों को टैब, 350 छात्रों को डोंगल दिया। प्रतिदिन 2 से 3 जीबी डेटा दस माह तक रिचार्ज कराकर दिया गया था। ये छात्र यूपी, बिहार, हरियाणा, राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तराखंड, गुजरात, तमिलनाडु, केरल, दिल्ली राज्यों के हैं। आइआइटी प्रशासन इन छात्रों को ईमेल कर छात्रावास खुलने की सूचना बहुत जल्द देगा।