NMC के मसौदा नियम में एमबीबीएस छात्रों के लिए आयुष में वैकल्पिक इंटर्नशिप का प्रस्ताव


NMC के मसौदा नियम में एमबीबीएस छात्रों के लिए आयुष में वैकल्पिक इंटर्नशिप का प्रस्ताव। फाइल फोटो।

एमबीबीएस के छात्रों को जल्द ही भारतीय चिकित्सा प्रणाली या आयुष में वैकल्पिक इंटर्नशिप करनी पड़ सकती है। आयुष के लिए इंटर्न आयुर्वेद योग यूनानी सिद्धा होम्योपैथी और सोवा रिगपा में से किसी एक को एक सप्ताह के प्रशिक्षण के लिए चुन सकते हैं।

नई दिल्ली, एजेंसी। राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) द्वारा जारी एक मसौदा नियम के अनुसार एमबीबीएस के छात्रों को जल्द ही भारतीय चिकित्सा प्रणाली या आयुष में वैकल्पिक इंटर्नशिप करनी पड़ सकती है। बारी-बारी से अनिवार्य इंटर्नशिप के मसौदा नियम, 2021 के अनुसार एमबीबीएस छात्रों के लिए बारी-बारी से प्रशिक्षण के कार्यक्रम में एक सप्ताह का प्रशिक्षण किसी भारतीय चिकित्सा पद्धति या आयुष की किसी एक विधा में एक सप्ताह का प्रशिक्षण होना चाहिए।

एनएमसी के मुताबिक आयुष के लिए इंटर्न आयुर्वेद, योग, यूनानी, सिद्धा, होम्योपैथी और सोवा रिगपा में से किसी एक को एक सप्ताह के प्रशिक्षण के लिए चुन सकते हैं। मसौदा के अनुसार, एमबीबीएस छात्रों को स्नातक की पढ़ाई पूरी होने के बाद 12 महीने की अवधि में 17 पोस्टिंग पूरी करनी होंगी। इनमें से 14 अनिवार्य हैं और तीन वैकल्पिक हैं। भारतीय चिकित्सा प्रणाली में प्रशिक्षण वैकल्पिक श्रेणी में है।

मसौदे में कहा गया है कि पर्याप्त उपस्थिति नहीं होने, जरूरी क्षमता संतोषषजनक तरीके से हासिल नहीं करने आदि की स्थिति में अनिवार्य इंटर्नशिप की न्यूनतम अवधि को ब़़ढाया जा सकता है। संस्थान या विश्वविद्यालय द्वारा नियमों के तहत इंटर्नशिप की अवधि को किसी भी समय कम किया जा सकता है, इसे अस्थायी रूप से निलंबित किया जा सकता है या रद किया जा सकता है।