दूसरी लहर से उबरने की राह पर देश: केरल, महाराष्ट्र व पूर्वोत्तर राज्यों में R फैक्टर के कारण बढे़ संक्रमण के मामले

 


चिंतित कर रहे केरल, महाराष्ट्र व पूर्वोत्तर में आ रहे कोविड-19 के मामले

पिछले दिनों कोरोना महामारी से देश में तबाही का आलम था। लेकिन अब इससे उबरने के संकेत मिलने लगे हैं। वहीं केरल महाराष्ट्र व पूर्वोत्तर में कोविड-19 के मामले कम होने के बजाए बढ़ते ही जा रहे हैं।

नई दिल्ली, एएनआइ। कोरोना महामारी की दूसरी लहर से देश अब उबरने की राह पर है लेकिन केरल, महाराष्ट्र व पूर्वोत्तर राज्यों में अब भी संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। ये नई चिंताएं R फैक्टर के कारण शुरू हुई हैं जो बताता है कि कोरोना से संक्रमित एक व्यक्ति द्वारा दूसरे कितने व्यक्तियों को संक्रमित करने की संभावना है। संक्रामकता दर जो जून के अंतिम सप्ताह में कम हो रही थी वह अचानक 20 जून से 7 जुलाई के बीच की अवधि में बढ़ गई। इस अवधि के दौरान देश के जिन 10 राज्यों में कोरोना मामले के कारण चिंताएं बढ़ी उनमें से सात पूर्वोत्तर राज्य हैं। इनमें सिक्किम में सबसे अधिक कोरोना मामले आए।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि जिन राज्यों में कोरोना संक्रमण के मामले अधिक है वहां जमीनी स्तर पर केंद्र सरकार की टीम काम कर रही है। साथ ही कहा गया है कि कोविड-19 अभी खत्म नहीं हुआ है। महाराष्ट्र और केरल में कोविड-19 के बढ़े मामलों पर स्वास्थ्य मंत्रालय की डॉ भारती परवीन पवार (Dr Bharati Pravin Pawar) ने कहा, केंद्र सरकार की टीम जमीनी स्तर पर काम कर रही है। हम लगातार हालात पर नजर रख रहे हैं, नियमित तौर पर राज्य सरकारों से फीडबैक ले रहे हैं। अभी कोविड-19 खत्म नहीं हुआ है।'

केरल में 1 लाख से अधिक हैं सक्रिय मामले

केरल में रविवार को कोविड-19 के 12,220 नए मामले और 97 संक्रमितों की मौत दर्ज की गई । इसके बाद अब तक राज्य में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 30,65,336 हो गया और अब तक मरनेवालों की संख्या बढ़कर 14,586 हो गई। वहीं 24 घंटों में 12,502 लोग स्वस्थ हुए और अब तक कुल स्वस्थ हुए लोगों की संख्या बढ़कर 29,35,423 हो गई। अभी केरल में 1,14,844 सक्रिय मामले हैं। यहां के संक्रमित जिलों में सबसे अधिक मलप्पुरम (1,861), कोझिकोड (1,428), त्रिशूर (1,307), अर्नाकुलम (1,128), कोल्लम (1,012), तिरुअनंतपुरम (1,009) और पलक्कड़ (990) में हैं। 

महाराष्ट्र में कम नहीं रहे मामले

रविवार को महाराष्ट्र में 8,535 नए संक्रमित मिले। वहीं 6,013 लोगों ने संक्रमण को मात दिया और 350 लोगों की मौत हो गई। यहां अब तक 61.57 लाख लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 59.12 लाख लोग ठीक हो चुके हैं, जबकि 1.25 लाख लोगों की मौत हुई है। अभी राज्य में 1.16 लाख एक्टिव मामले हैं।

त्रिपुरा में नहीं है डेल्टा प्लस का एक भी मामला

भारत सरकार की ओर से बयान जारी कर बताया गया कि त्रिपुरा में डेल्टा प्लस का एक भी मामला नहीं है। इसमें बताया गया, 'त्रिपुरा में डेल्टा प्लस वैरिएंट के मामले बढ़ने की खबर मिली। अप्रैल और मई 2021 के बीच 152 सैंपल के नतीजे पॉजिटिव आए और इन्हें जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए NIBMG कल्याणी भेजा गया था। इसमें डेल्टा प्लस के मामले नहीं थे। इसमें 3 सैंपल B.1.1.7 से संक्रमित पाए गए वहीं 11 सैंपल B.1.617.1 (कप्पा) और 138 B.1.617.2 (डेल्टा) से संक्रमित थे।' यहां संक्रमण के मामलों में कमी न देखते हुए अगरतला, रानीरबाजार, जिरानिया नगर, उदयपुर, कैलाशहर, धर्मनगर, खोवाई, बेलोनिया, कुमारघाट, तेलियामुरा, सोनमुरा नगर, अमरपुर नगर और सबरूम नगर में 17 जुलाई तक कोविड कर्फ्यू जारी रहने का ऐलान किया गया है।

असम और मणिपुर का हाल

असम (Assam) में 1,579 नए संक्रमित मिले, 2,793 लोग संक्रमण की चपेट से बाहर आए और 16 नई मौतें दर्ज की गई वहीं मणिपुर (Manipur) में 911 नए संक्रमितों की पहचान हुई और 14 संक्रमितों की मौत हो गई। यहां 570 लोग संक्रमण से स्वस्थ हुए। यहां रिकवरी रेट 89.05 फीसद हो गई है।