कांग्रेस के सांसदों को SKM की दो टूक, साथ दो हमारा वरना कर देंगे भाजपा नेताओं जैसा हाल

 


'कृषि कानून का करो विरोध, वरना भाजपा जैसा होगा हाल' कांग्रेस समेत अन्य विपक्ष दलों को SKM ने चेताया

संयुक्त किसान मोर्चा के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कांग्रेस समेत अन्य विपक्ष दलों को चेतावनी भरे अंदाज में कहा है कि यदि संसद में कृषि कानूनों का विरोध नहीं किया तो भाजपा की ही तरह कांग्रेस का भी विरोध किया जाएगा।

नई दिल्ली/सोनीपत/गाजियाबाद, जागरण संवाददाता। तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर दिल्ली के जंतर मंतर पर बृहस्पतिवार से धरना-प्रदर्शन शुरू हो गया है। अनुमति के नियमों के तहत सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक रोजाना 200 किसान जंतर मंतर पर प्रदर्शन कर सकेंगे। वहीं, संयुक्त किसान मोर्चा के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कांग्रेस समेत अन्य विपक्ष दलों को चेतावनी भरे अंदाज में कहा है कि यदि संसद में कृषि कानूनों का विरोध नहीं किया तो भाजपा की ही तरह कांग्रेस का भी विरोध किया जाएगा।

बता दें कि तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों का विरोध कर रहे खापों और संयुक्त किसान मोर्चा के नेता पहले ही एलान कर चुके हैं कि किसान अपने छतों से भारतीय जनता पार्टी और जेजेपी के झंडों को उतारकर राष्ट्रीय ध्वज और भारतीय किसान यूनियन का झंडा लगाएंगे। जाट बहुल इलाके के खापों से जुड़े किसानों ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और दुष्यंत चौटाला के जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के नेताओं के सामाजिक बहिष्कार का भी एलान हो चुका है।हरियाणा और पंजाब में  भाजपा-जेजेपी के नेताओं के सामाजिक बहिष्कार का भी फैसला लिया गया है। किसानों से यह भी कहा गया है कि इन पार्टियों के नेताओं को अपने गांवों में ना घुसने दिया जाए। किसान सामाजिक कार्यक्रमों में सत्ताधारी पार्टी के नेताओं को नहीं बुलाएंगे। 

बता दें कि बृहस्पतिवार से कृषि कानून विरोधी आंदोलनकारी जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर रहे हैं। यह प्रदर्शन रोजाना सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक चलेगा। इसके लिए रोजाना चार बसों से आंदोलनकारी और उसके नेता दिल्ली के जंतर-मंतर जाएंगे। मोर्चा के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने प्रदर्शन की तैयारी का मंच से जिक्र करते हुए कह चुके हैं कि प्रदर्शन में शामिल आंदोलनकारियों की पूरी सूची मोर्चा के पास होगी। रोजाना इसी तरह 200 लोगों की सूची बनाई जाएगी और इससे इतर एक भी व्यक्ति इस प्रदर्शन में शामिल नहीं होगा। उन्होंने सभी से अनुशासन में रहकर मोर्चा को आगे बढ़ाने की अपील की साथ ही कहा कि जिनका नाम सूची में न हो वे कोई विवाद न करें और अनुशासन बनाए रखें। राजेवाल ने कहा कि यदि संसद में कृषि कानूनों का विरोध नहीं किया तो भाजपा की ही तरह कांग्रेस का भी विरोध किया जाएगा।यूपी गेट से भी किसान दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रदर्शन में शामिल हैं। भाकियू के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बताया कि किसानों का दल दिल्ली के सिंघु बॉर्डर जाएगा। वहां से बस से दिल्ली जाएंगे। उन्होंने कहा कि यूपी गेट पर प्रदर्शन जैसे चल रहा है वैसे ही चलेगा। किसी प्रकार से दिल्ली से आने वाली सड़क को बंद नहीं किया जाएगा। लोगों को परेशानी नहीं होगी। यूपी गेट पर बैठा किसान लोगों को परेशान नहीं करना चाहता। यूपी गेट पर किसानों की संख्या लगातार बढ़ रही है और अब सरकार को जागना होगा।