कक्षा 10 और 12 के छात्रों के लिए स्पेशल Term 1 Study Plan की घोषणा

  

CBSE 2021 Sample Papers में देरी, इसके बदले Study Plan दिया गया

 के Term 1 Sample Paper में अभी और देरी हो सकती है| इसी वजह से एक Student Study Plan की घोषणा की गई है जिससे छात्रों को पाठ्यक्रम समय से पूरा करने में मदद मिलेगी| Term 1 MCQ Question Bank भी सुझाया गया है|

की तारीखों की घोषणा के बाद इन परीक्षाओं की तैयारी में जुट गए हैं। हालाँकि, हमारे सूत्र के अनुसार कक्षा 10 और 12 के छात्रों के लिए Term 1 CBSE Sample Paper अपलोड करने में देरी हो रही है। अब यह उम्मीद की जा रही है कि Term 1 के लिए CBSE Sample Paper अगस्त के अंतिम सप्ताह में किसी भी समय CBSE Official Website पर अपलोड कर दिया जाएगा।

छात्र और शिक्षक इस बात से चिंतित हैं कि इन Term-आधारित तैयारियों को कैसे अनुकूलित किया जाए क्योंकि कईं स्कूल अभी भी तर्कसंगत पाठ्यक्रम को पूरा करने पर ध्यान दे रहे हैं, जिसमें Objective + Subjective Periodic Tests भी शामिल हैं।

इसलिए CBSE छात्रों को Term 1 की तैयारी में मदद करने के लिए कल एक अध्ययन योजना की घोषणा की गई। यह योजना छात्रों को सभी विषयों का अध्ययन संरचित करने में मदद करेगी। साथ ही, सभी प्रकार के नए पैटर्न के प्रश्नों की एक Term 1 MCQ/ Objective Book भी लॉन्च की गई है।

1. टर्म 1 स्टडी टाइमलाइन (Term 1 Study Timeline)

CBSE की इस योजना के अनुसार, Term 1 पाठ्यक्रम को 25 सितंबर 2021 (अब से 40 दिन बाद) और Term 1 रिवीजन को 5 नवंबर तक पूरा करने का सुझाव दिया गया है। इसका मतलब है की Term 1 Exams नवंबर में ही हो सकते हैं |

jagran

कक्षा 10 और 12 के लिए सुझाई गई टाइमलाइन

CBSE के विशेषज्ञों का कहना है कि रोज़ की online classes और assignments के बाद, छात्रों के पास आमतौर पर self-study के लिए बहुत ही कम समय बचता है | इसलिए:

●उन्हें अपने self-study की संरचना करनी चाहिए और नवीनतम 25 सितंबर तक Term 1 पाठ्यक्रम को अपनी गति से कवर करने का प्रयास करना चाहिए।

●केवल NCERT पुस्तक और एक अच्छी Objective Book जो Term 1 के नए MCQ टाइप के प्रश्नों के साथ बनाये गए हो (इस पर बाद में नीचे एक recommendation भी बताया गया है) पर ध्यान देना चाहिए।

●सितंबर के अंत से नवंबर के पहले सप्ताह (~40 दिन) तक, CBSE Sample Paper का उपयोग करके अंतिम revision पर पूरी तरह से ध्यान केंद्रित करना चाहिए |

ये सब करने में मदद करने के लिए और पाठ्यक्रम को पूरा करने के लिए 'छात्र अध्ययन घंटे' नामक एक नई अवधारणा का उपयोग करना समझाया गया है।

 2. छात्र अध्ययन घंटे (Student Study Hours)

ठीक जिस तरह काम करने वाले पेशेवर 'व्यावसायिक कामकाजी घंटों' के भीतर ही काम करते है, छात्रों के पास भी प्रत्येक दिन ‘स्व-अध्ययन के घंटे' होने चाहिए, क्योंकि उनके पास सीमित उत्पादकता का समय होता है। CBSE विशेषज्ञ 'x घंटे' की एक नई अवधारणा के साथ आए हैं, जो हर दिन कुछ विषयों पर खर्च करने के लिए है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि Term 1 के सभी अध्याय 25 सितंबर तक पूरे हो जाएं।

1 दिन = 2 घंटे

(हर main subject के लिए)

कोई भी छात्र 1 महीने तक दिन में 14 घंटे सिर्फ एक विषय का अध्ययन नहीं कर सकता है। एक 30-दिन, 60-दिन या 90-दिन की अध्ययन रणनीति पहले से योजना बनाने के लिए बहुत ही अवास्तविक है।

jagran

 कक्षा 10 के लिए छात्र अध्ययन घंटे का ब्रेकडाउन

विचार यह है कि प्रतिदिन कक्षा 10 मुख्यविषयों (Maths, Science और SST) के लिए कुल 6 घंटे के साथ 2 घंटे स्व-अध्ययन करें। बारी-बारी से दो घंटे English या SST को rotation मैं दें, क्योंकि उन विषयों में बहुत सारे chapters शामिल होते हैं। उत्पादकता बनाए रखने के लिए कुल मिलाकर 6 घंटे का स्व-अध्ययन पर्याप्त होना चाहिए