बंगाल के जहरीली शराब कांड में मुख्य अभियुक्त को उम्र कैद की सजा, घटना में 173 लोगों की हुई थी मौत

 

बंगाल के जहरीली शराब कांड में मुख्य अभियुक्त की सजा की घोषणा

बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले के संग्रामपुर में दिसंबर 2011 में जहरीली शराब पीने से हुई 173 लोगों की मौत के मामले में कोलकाता की अलीपुर नगर दायरा अदालत ने सोमवार को मुख्य अभियुक्त नूर इस्लाम फकीर उर्फ खोड़ा बादशाह को उम्र कैद की सजा सुनाई।

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले के संग्रामपुर में दिसंबर, 2011 में जहरीली शराब पीने से हुई 173 लोगों की मौत के मामले में कोलकाता की अलीपुर नगर दायरा अदालत ने सोमवार को मुख्य अभियुक्त नूर इस्लाम फकीर उर्फ खोड़ा बादशाह को उम्र कैद की सजा सुनाई। हत्या, गंभीर शारीरिक क्षति पहुंचाने सहित चार धाराओं के तहत खोड़ा बादशाह को दोषी करार दिया गया था।

लगभग एक दशक के लंबे इंतजार के बाद अदालत ने अपना फैसला सुनाया। वहीं दूसरी ओर कोई साक्ष्य नहीं मिलने के कारण अदालत ने सात लोगों को बरी कर दिया है। दिसंबर, 2011 में दक्षिण 24 परगना के संग्रामपुर तथा उसके आसपास के इलाकों में जहरीली शराब पीने से 173 लोगों की मौत हो गई थी।

मामले की जांच के लिए बंगाल सरकार ने विशेष जांच टीम का गठन किया था। जांच में पता चला था कि नशे के स्तर को बढ़ाने के लिए शराब में मिथाइल अल्कोहल और जहरीले रसायनों का इस्तेमाल किया गया था, जिसने 173 लोगों की जान ले ली थी।

10 साल पहले हुई इस घटना

10 साल पहले हुई इस घटना ने तब राज्य की राजनीति में कोहराम मचा दिया था। पश्चिम बंगाल सरकार ने मृतकों के लिए मुआवजा का ऐलान किया था। इसके खिलाफ विरोधी दलों ने काफी हंगामा मचाया था। उनका कहना था कि सरकार शराब पीने से मरने वालों के लिए मुआवजा की घोषणा कर रही है। यह सही नहीं है।