33 बाइक लगवाने के नाम पर 20 लाख की ठगी


जिला न्यायालय ने अर्जी पर सुनवाई करते हुए मुकदमा दर्ज करने का दिया आदेश

अधिवक्ता वीरेंद्र नागर बादलपुर ने बताया कि गाजियाबाद के विजय नगर निवासी अरविंद कुमार ने बाइक बोट कंपनी में 33 बाइक लगवाने के लिए 20 लाख का निवेश कंपनी में किया था। कुछ समय बाद कंपनी दिवालिया घोषित हो गई।

ग्रेटर नोएडा । देश के सवा दो लाख लोगों से अरबों की ठगी करने वाली बाइक बोट कंपनी के खिलाफ एक और मुकदमा दर्ज करने का आदेश जिला न्यायालय ने दिया है। गाजियाबाद निवासी व्यक्ति ने इस संबंध में कोर्ट में अर्जी लगाई थी। घोटाले का मुख्य आरोपित संजय भाटी वर्तमान में जेल में बंद है। दादरी कोतवाली पुलिस को मुकदमा दर्ज कर आख्या कोर्ट में प्रेषित करने के लिए कहा गया है।

अधिवक्ता वीरेंद्र नागर बादलपुर ने बताया कि गाजियाबाद के विजय नगर निवासी अरविंद कुमार ने बाइक बोट कंपनी में 33 बाइक लगवाने के लिए 20 लाख का निवेश कंपनी में किया था। कुछ समय बाद कंपनी दिवालिया घोषित हो गई। लोगों से ली गई रकम का एक साल में दोगुना वापस करने का झांसा दिया गया था।

झांसे में आकर देश भर के सवा दो लाख लोगों ने निवेश कर दिया। इसी में अरविंद भी शामिल हैं। उन्होंने निवेश रकम वापस मांगी तो उनको धमकी दी गई। कोर्ट ने मामले में मुकदमा दर्ज कर जांच के आदेश दिए हैं। बता दें कि बाइक बोट कंपनी की पुलिस अब तक करोड़ों की संपत्ति जब्त कर चुकी है।

दस से अधिक आरोपित अब तक जेल जा चुके है। जिसमें संजय भाटी के अलावा बीएन तिवारी समेत कई अन्य बड़े नाम शामिल हैं। साजिश के तहत घोटाले को अंजाम दिया गया था। अरविंद की अर्जी पर कोर्ट ने संजय भाटी, करनपाल, विजयपाल, महबूब आलम, राजेश भारद्वाज, विनोद सिंह, राजेश सिंह, हरीश, विनोद कुमार, विशाल, ललित, रविंद्र, लोकेंद्र, पुष्पेंद्र, विजय शर्मा, बिजेंद्र हुड्डा व अनिल कुमार के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। इनमें से कुछ आरोपित जेल में बंद है।