नए पाकिस्‍तान की निकली हवा, इमरान सरकार के तीन वर्ष के रिपोर्ट कार्ड में 51 में से केवल दो वादे हुए पूरे

 



इमरान खान सरकार के पाकिस्‍तान में तीन वर्ष हुए पूरे

पाकिस्‍तान में इमरान खान सरकार के तीन वर्ष पूरे हो गए हैं। इस पर सरकार ने अपना रिपोर्ट कार्ड भी जारी किया है। इसमें गर्व से बताया गया है कि सरकार ने 51 में से दो वादों को पूरा कर लिया है।

इस्‍लामाबाद (आनलाइन डेस्‍क)। पाकिस्‍तान की इमरान खान सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर उसने अपना रिपोर्ट कार्ड जारी किया है। इस रिपोर्ट कोर्ड के जरिए देश में नया पाकिस्‍तान का नारा देने वाले इमरान खान की काबलियत को भी आसानी से देखा जा सकता है। आपको बता दें कि इमरान खान की सरकार के दौरान देश में न सिर्फ गरीबी रेखा से नीचे रहने वालों की संख्‍या बढ़ी है बल्कि देश में खाने-पीने की जरूरी चीजों के दामों में भी जबरदस्‍त तेजी देखने को मिली है।

इसी माह इमरान खान ने गैस, तेल और डीजल के दामों में तेजी कर आम आदमी की जेब पर और अधिक बोझ डालने का एलान किया था। इसके बाद भी जरूरी चीजों के दामों में तेजी देखने को मिली थी। आपको बता दें कि वर्तमान में पाकिस्‍तान न सिर्फ कोरोना महामारी से जूझ रहा है, बल्कि देश में पानी और बिजली की भी जबरदस्‍त किल्‍लत हो रही है। पाकिस्‍तान की सरकार के मंत्री इस बात को कह चुके हैं कि यदि हालात नहीं सुधरे तो आने वाले दिनों में देश को अकाल तक का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में सरकार के तीन वर्ष का रिपोर्ट कार्ड भी चौंकाने वाला है।

सरकार ने अपने रिपोर्ट कार्ड को जारी करते हुए बताया है कि इन तीन वर्षों में इमरान खान अपने किए वादों में से केवल दो ही पूरे कर सके हैं। 6 वादे पूरा होने के करीब हैं और 37 पर फिलहाल काम चल रहा है। छह वादे ऐसे भी हैं जिनकी अब तक शुरुआत भी नहीं हुई है। कुल मिलाकर कहा जाए तो इमरान खान ने अपनी सरकार को केंद्र में लाने के लिए जनता से जो 51 वादे किए थे उनमें से महज दो ही वो अब तक पूरे कर सके हैं। जो दो वादे पूरे हुए हैं उनमें एक है सरकारी खजाने को घोटाले समेत अन्‍य गलत कार्यों के जरिए लूटने वालों के खिलाफ स्‍पेशल टास्‍क फोर्स का गठन है तो दूसरा पाकिस्‍तान के बाहर रहने नागरिकों के लिए निवेश का अवसर बढ़ाना है।

फगानिस्तान के हालात पर नजर बनाए है पाकिस्तान, राजनीतिक समझौते के लिए कर रहा प्रयाससके अलावा जिन पर अब तक कोई शुरुआत भी नहीं हुई है उसमें कराची में वाटर माफिया पर लगाम लगाना और साफ पानी मुहैया करवाना, मदरसा स्‍कीम को लागू करना, क्रिमीनल जस्टिस रिफोम्‍स, मीडिया रिफोर्म्‍स शामिल है।