महिलाओं की सुरक्षा के लिए ओवैसी को अफगानिस्तान भेजें: भारतीय महिलाओं पर AIMIM चीफ की टिप्पणी पर बोलीं शोभा करंदलाजे

 

महिलाओं की सुरक्षा के लिए उन्हें अफगानिस्तान भेजें: भारतीय महिलाओं पर ओवैसी की टिप्पणी पर बोलीं शोभा करंदलाजे

ओवैसी ने हाल ही में केंद्र सरकार को यह कहते हुए सवाल उठाया था एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में नौ में से एक महिला की पांच साल की उम्र से पहले मृत्यु हो जाती है। ओवैसी बोले- केंद्र चिंतित हैं कि अफगानिस्तान में महिलाओं का क्या हो रहा है।

हैदराबाद, एएनआइ। केंद्रीय मंत्री शोभा करंदलाजे ने शुक्रवार को असदुद्दीन ओवैसी पर निशाना साधा और कहा कि एआईएमआईएम प्रमुख को उनकी महिलाओं और उनके समुदाय की सुरक्षा के लिए अफगानिस्तान भेजा जाना चाहिए। भारत में महिलाओं के खिलाफ अत्याचार और अपराधों के बारे में ओवैसी की टिप्पणी पर करंदलाजे ने कहा, 'ओवैसी को उनकी महिलाओं और उनके समुदाय की रक्षा के लिए अफगानिस्तान भेजना बेहतर है।'

ओवैसी ने हाल ही में केंद्र सरकार को यह कहते हुए सवाल उठाया था, 'एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में नौ में से एक महिला की पांच साल की उम्र से पहले मृत्यु हो जाती है। यहां महिलाओं के खिलाफ अत्याचार और अपराध होते हैं। लेकिन, वे (केंद्र) चिंतित हैं कि अफगानिस्तान में महिलाओं का क्या हो रहा है। क्या यहां भी ऐसा नहीं हो रहा है?'

एक कार्यक्रम में बोलते हुए, ओवैसी ने कहा कि अफगानिस्तान के तालिबान अधिग्रहण से पाकिस्तान को सबसे ज्यादा फायदा होगा क्योंकि देश की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) आतंकवादी संगठन को नियंत्रित करती है। वे बोले थे, 'अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे से पाकिस्तान को सबसे ज्यादा फायदा हुआ है। विशेषज्ञ कह रहे हैं कि अलकायदा और दाएश अफगानिस्तान के कुछ इलाकों में पहुंच चुके हैं। जैश-ए-मोहम्मद, जो संसद पर हमले सहित आतंकवाद के कृत्यों में लिप्त है, वे अब अफगानिस्तान के हेलमंद में हैं। यह याद रखना चाहिए कि आईएसआई तालिबान को नियंत्रित करता है। आईएसआई भारत का दुश्मन है और तालिबान को कठपुतली के रूप में इस्तेमाल करता है।'

ओवैसी ने यह भी कहा कि तालिबान के अधिग्रहण से चीन को भी फायदा होगा।

पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद हुई हिंसा की घटनाओं की अदालत की निगरानी में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने के कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश की बात करते हुए, करंदलाजे ने कहा, 'जांच की जरूरत है। पश्चिम बंगाल में, उन्होंने तालिबानियों की तरह काम किया। इसलिए जांच की जरूरत है। हमारे कार्यकर्ताओं को न्याय मिलना चाहिए।'