चित्रकूट में दो पक्षों के बीच हुई ताबड़तोड़ गोलीबारी, पुलिस ने शुरू की आरोपितों की तलाश

 

चित्रकूट में हुई गोलीबारी से संबंधित प्रतीकात्मक फोटो।
एएसपी ने बताया कि गैंगवार जैसी कोई बात नहीं है दोनों पक्ष शराब के नशे में थे।वाद विवाद के बीच गोलियां चली थी। रवि के जबड़े सुग्गा से पसली और नितिन कुरील निवासी पुरानी बाजार कर्वी के हथेलियों में गोली लगी है।

चित्रकूट। कर्वी कोतवाली अंतर्गत शोभा सिंह के पुरवा में पुरानी रंजिश को लेकर बुधवार की देर रात करीब 12 बजे दो पक्षों के बीच ताबड़तोड़ गोलियां चली। गैंगवार में तीन को गोली लगी है। सभी को प्रयागराज रेफर कर दिया गया है। पुलिस के मुताबिक शराब के नशे में वारदात हुए है गैंगवार जैसी कोई  बात नहीं है। एक पक्ष से तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। 

       शोभा ङ्क्षसह पुरवा प्रयागराज रोड निवासी मनोज बेलौंहा के घर बुधवार की देर रात पुरानी बाजार निवासी रवि मिश्रा करीब आधा दर्जन साथियों के साथ स्कार्पियो से गया था। रवि ने पहुंच कर मनोज को दरवाजे में आवाज लगाई। जैसे ही मनोज अपने चचेरे भाई विजय द्विवेदी उर्फ सुग्गा व साथी नीरज गौतम के साथ बाहर निकल कर आया तो गाली गलौज होने के साथ दोनों ओर से गोलियां चलने लगी। राष्ट्रीय राजमार्ग झांसी-मीरजापुर में करीब आधा घंटे कई राउंड गोलियां चली। गोलियों की तड़तड़ाहट से मोहल्ला में दहशत फैल गई। गोलीबारी में रवि मिश्रा, सुग्गा और नितिन बुरी तरह  से घायल होकर सड़क पर गिर पडे। यह देख अन्य लोग भाग निकले। एसपी धवल जायसवाल,  एएसपी  शैलेंद्र कुमार  राय, सीओ सिटी शीतला प्रसाद  पांडेय और  कोतवाल वीरेंद्र कुमार त्रिपाठी अस्पताल ने अस्पताल में सभी घायलों के बयान दर्ज किए। 

      एएसपी ने बताया कि गैंगवार जैसी कोई बात नहीं है दोनों पक्ष  शराब के नशे में थे।वाद विवाद के बीच गोलियां चली थी। रवि के जबड़े, सुग्गा से पसली और नितिन कुरील निवासी पुरानी बाजार कर्वी के हथेलियों में गोली लगी है। घटना स्थल से पिस्टल के तीन और 315 बोर  तमंचा का एक खोखा मिला है।असलहा कोई बरामद नहीं हुआ है। स्कार्पियो में जरूर काफी  शराब मिली है।  रवि मिश्रा की हालत गंभीर है। दो दरोगा और तीन सिपाही को प्रयागराज भेजा गया है। कोतावाल ने बताया कि रवि के पिता रामचंद्र मिश्रा की तहरीर पर मनोज बेलौंहा, विजय द्विवेदी उर्फ सुग्गा व नीरज गौतम के खिलाफ हत्या  के प्रयास का मामला दर्ज किया गया है। मनोज व नीरज फरार है। जिनकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। 

दस साल पहले की है रंजिश 

सीओ ने बताया कि दोनों पक्ष के बीच दस साल पहले की रंजिश है। पढ़ाई के समय में रवि मिश्रा ने मनोज को अपहरण के मामलेे में फंसाया था। तभी तो दोनों पक्षों को बीच विवाद चल रहा है।