किसान नेता राकेश टिकैत की फिसल गई जुबान, लोग उड़ा रहे जमकर मजाक; आप भी जानिये- पूरा मामला

 

किसान नेता राकेश टिकैत की फिसल गई जुबान, लोग उड़ा रहे जमकर मजाक; आप भी जानिये- पूरा मामला
राकेश टिकैत एक निजी टेलीविजन न्यूज चैनल से विशेष बातचीत के दौरान सफाई दे रहे थे कि स्वतंत्रता दिवस समारोह के लिए किसान लाल किला नहीं जाएंगे बल्कि अपने खेतों और गांवों में तिरंगा फहराएंगे। इस बीच पत्रकार के एक सवाल पर उनकी जुबान फिसल गई।

नई दिल्ली, डिजिटल डेस्क। तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को पूरी तरह से वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली-एनसीआर के चारों बार्डर (टिकरी, सिंघु, शाहजहांपर और गाजीपुर) पर यूपी, हरियाणा और पंजाब समेत कई राज्यों के किसानों का प्रदर्शन जारी है। चारों बार्डर पर किसानों की संख्या बेहद कम हो गई है, लेकिन संयुक्त किसान मोर्चा की अगुवाई में चल रहा प्रदर्शन थम नहीं रहा है।

इस बीच यूपी गेट पर धरना प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत  का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल है, जिसका इंटरनेट मीडिया पर खूब मजाक उड़ रहा है। इस वीडियो में किसान नेता राकेश टिकैत स्वतंत्रता दिवस को गणतंत्र दिवस कहते नजर आ रहे हैं। फिर क्या था लोग वीडियो शेयर कर राकेश टिकैत की जमकर खिंचाई कर रहे हैं। 

फिल्ममेकर अशोक पंडित ने किया राकेश टिकैत पर कटाक्ष

बॉलीवुड फिल्म निर्माता अशोक पंडित ने राकेश टिकैत के इस वीडियो को ट्विटर करते हुए लिखा है- 'देश के आंदोलनजीवी हैं, इन्हें गणतंत्र दिवस व स्वाधीनता दिवस का फर्क भी नहीं मालूम है। देश को बरगलाना छोड़ दो टिकैत साहब, नहीं तो यह देश आपको कभी भी माफ नहीं करेगा।'

बता दें कि राकेश टिकैत एक निजी टेलीविजन न्यूज चैनल से विशेष बातचीत के दौरान सफाई दे रहे थे कि स्वतंत्रता दिवस समारोह के लिए किसान लाल किला नहीं जाएंगे, बल्कि अपने खेतों और गांवों में तिरंगा फहराएंगे। इस बीच अपने बयान में कहा कि सब अपने गांव में, खेत में और अपने-अपने घरों में गणतंत्र दिवस मनाएंगे। इसके साथ ही राकेश टिकैत स्वतंत्रता दिवस को लेकर गणतंत्र दिवस कह बैठे। इसके बाद लोग इंटरनेट मीडिया पर राकेश टिकैत को जमकर ट्रोल कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि इतने बड़े किसान नेता को स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस का फर्क नहीं मालुम है।

शनिवार रात को यूपी गेट पर मारपीट

उधर, दिल्ली से सटे यूपी गेट पर कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे धरने में शामिल प्रदर्शनकारी शनिवार देर रात आपस में भिड़ गए। इसका खुलासा अगले दिन हुआ। बताया जा रहा है कि इस दौरान किसानों ने आपस में जमकर मारपीट की, लेकिन पुलिस को इस बाबत कोई शिकायत नहीं मिला। पूरा मामला शनिवार रात करीब 11 बजे का है। कहा जा रहा है कि कुछ प्रदर्शनकारी कार में सवार होकर धरनास्थल पर पहुंचे। यहां पहले से मौजूद प्रदर्शनकारियों से कार अंदर ले जाने को लेकर उनकी बहस हो गई। देखते-देखते गाली-गलौज और मारपीट शुरू हो गई। करीब आधे घंटे तक जमकर मारपीट हुई। मौके पर पहुंचे अन्य प्रदर्शनकारियों ने बीच-बचाव किया।

गौरतलब है कि तीनों कृषि कानूनों के विरोध में यूपी गेट पर 28 नवंबर से धरना चल रहा है। प्रदर्शनकारियों ने यहां दिल्ली जाने वाली सभी लेन पर कब्जा किया है। राहगीरों को अन्य सीमाओं से दिल्ली जाना पड़ रहा है। इससे काफी परेशानी हो रही है। 29 अगस्त को किसानों के धरना प्रदर्शन को 9 महीने पूरे हो जाएंगे। माना जा रहा है कि किसान आंदोलन के 9 महीने पूरे होने पर संयुक्त किसान मोर्चा इसे विशेष दिन के तौर पर मनाने की योजना बना रहा है। इसका खुलासा अगले कुछ दिनों के दौरान हो जाएगा।