राकेश टिकैत ने फिर केंद्र सरकार पर साधा निशाना, बोले अब इस मुद्दे पर भी मांगा जाएगा हिसाब किताब

 

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत केंद्र सरकार से खासे खफा रहते हैं।
इससे पहले कई बार मीडिया से बातचीत के दौरान राकेश टिकैत ये कह चुके हैं कि आने वाले चुनावों में किसान बीजेपी को सबक सिखाएगा उन्होंने कहा कि किसान का इलाज संसद में है और संसद में बैठने वालों का इलाज गांवों में।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत केंद्र सरकार से खासे खफा रहते हैं, वो आए दिन कोई न कोई ऐसा मुद्दा खोजते रहते हैं जिससे केंद्र सरकार पर निशाना साध सके और किसानों को अपने हित में बनाए रख सकें। इसी के तहत वो आए दिन अपने इंटरनेट मीडिया एकाउंट ट्विटर पर कुछ न कुछ पोस्ट करते रहते हैं। केंद्र सरकार से खुल्लामखुला मोर्चा लेना उनका पुराना काम हो गया है। इसी बहाने वो किसानों को सरकार के खिलाफ भड़काते भी रहते हैं।

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का धरना चलते हुए आठ माह से अधिक का समय हो चुका है। केंद्र सरकार से किसान संगठन के नेताओं की कई दौर की बातचीत भी हो चुकी है मगर उसका कोई नतीजा नहीं निकला है, अब एक बार फिर से बातचीत को लेकर माहौल बनाया जा रहा है। खैर बातचीत कब होगी ये अभी तय नहीं किया जा सका है। इस बीच राकेश टिकैत ने अपने ट्विटर हैंडल से कुछ लाइनें ट्वीट की है और लिखा है कि अब केंद्र सरकार से इसका भी हिसाब-किताब मांगा जाएगा। इसी के साथ एक पोस्टर भी ट्वीट किया है।

इससे पहले कई बार मीडिया से बातचीत के दौरान राकेश टिकैत ये कह चुके हैं कि आने वाले चुनावों में किसान बीजेपी को सबक सिखाएगा, उन्होंने कहा कि किसान का इलाज संसद में है और संसद में बैठने वालों का इलाज गांवों में। इससे पहले भी वो सरकार पर दबाव बनाने के लिए जंतर मंतर पर किसान संसद का आयोजन कर चुके हैं। उन्होंने कहा था कि उधर संसद भवन में संसद चलेगी वहीं विरोध स्वरूप किसानों की संसद जंतर मंतर पर चलेगी, हम सरकार को दिखाएंगे कि हम भी संसद चला सकते हैं।