भारतीय दूतावास दे रहा अफगान सहयोगियों को वीजा, आवेदकों की संख्या में वृद्धि

 


भारतीय दूतावास दे रहा अफगान सहयोगियों को वीजा, आवेदकों की संख्या में वृद्धि

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल की चौखट पर तालिबान के कदम पड़ चुके हैं। ऐसी स्थिति में अफगानिस्तान स्थित भारतीय दूतावास में वीजा बनवाने वालों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है। बता दें कि काबुल में तालिबान तक पहुंच गया है।

काबुल, एएनआइ। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल की चौखट पर तालिबान के कदम पड़ चुके हैं। ऐसी स्थिति में अफगानिस्तान स्थित भारतीय दूतावास में वीजा बनवाने वालों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है। अफगानिस्तान में अमेरिका और ब्रिटेन के द्वारा वीजा नियमों में ढील के बाद अब भारतीय दूतावास भी अफगान सहयोगियों को वीजा दे रहा है।

सूत्रों ने बताया कि पिछले कई दिनों से भारतीय दूतावास में वीजा आवेदकों की संख्या में वृद्धि हुई है। यहां वीजा प्रक्रिया को पूरा करने के लिए दिन-रात काम चल रहा है। सभी वाणिज्य दूतावास बंद होने के बाद अब वीजा बनाने का काम सिर्फ काबुल के दूतावास में ही चल रहा है।

दूतावास के सूत्रों ने बताया कि भारत के साथ लंबे समय तक सहयोग करने वाले अफगान सहयोगियों को भी वीजा देने का काम किया जा रहा है। ऐसे लोगों में दूतावासों और वाणिज्य दूतावासों में काम करने वाले लोग और उनका परिवार भी शामिल है।ज्ञात हो कि भारत ने पहले की साफ कर दिया है कि वह अफगानिस्तान में हिंसा के बल पर काबिज होने वाली सरकार को मान्यता नहीं देगा। भारत अफगानिस्तान में मानवाधिकारों को बहाल रखने की पैरोकारी शुरू से ही कर रहा है।

काबुल में घुसा तालिबान, बोले-किसी से बदला लेना हमारा मकसद नहीं

अफगान आंतरिक मंत्रालय के हवाले से बताया है कि तालिबान ने अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में हर तरफ से घुसना शुरू कर दिया है। उन्होंने काबुल से जाने वाले रास्तों को अपने कब्जे में ले लिया है। वहीं, तालिबान ने एक बयान जारी कर कहा है कि उनका अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में जबरन घुसने का कोई इरादा नहीं है। टोलो न्यूज़ के मुताबिक, अफगानिस्तान के कार्यवाहक आंतरिक मंत्री अब्दुल सत्तार मिर्जाकवाल ने कहा कि राजधानी काबुल पर हमला नहीं किया जाएगा सब कुछ शांतिपूर्वक होगा। उन्होंने काबुल निवासियों को आश्वासन दिया कि सुरक्षा बल शहर की सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे।