सुप्रीम कोर्ट के सामने महिला-पुरुष ने खुद को किया आग के हवाले

 


सुप्रीम कोर्ट के सामने महिला-पुरुष ने खुद को किया आग के हवाले
सोमवार सुबह सुप्रीम कोर्ट के गेट नंबर डी के सामने एक महिला और पुरुष ने कथित तौर पर खुद को आग लगा ली। इलाके की घेराबंदी कर दी गई है। घायलों को राम मनोहर लोहिया अस्पताल ले जाया गया है जहां पर दोनों का इलाज जारी है।

नई दिल्ली, संवाददाता। सुप्रीम कोर्ट के सामने एक महिला और पुरुष द्वारा आत्महत्या करने की कोशिश का मामला सामने आया है। घटना के दौरान वहां मौजूद वकीलों की मदद से पीड़ित महिला-पुरुष को तत्काल नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां पर उनका इलाज जारी है। डॉक्टरों ने युवती को 85 फीसद और युवक को 65 फीसद जलना बताया है। युवती के बच पाने की संभावना कम है। युवती सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता बताई जा रही है और युवक इस मामले में आरोपित है। अब पुलिस यह पता लगा रही है कि युवती के साथ दुष्कर्म हुआ था या सामूहिक दुष्कर्म। पूरे मामले के मुताबिक, युवती के साथ कुछ साल पहले सामूहिक दुष्कर्म हुआ था। सुप्रीम कोर्ट के सामने आत्महत्या की कोशिश करने वाले आरोपित ने भी युवती के स्वजनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया था। 

जागरण संवाददाता से मिली जानकारी के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट के बाहर सोमवार को अचानक एक महिला और एक पुरुष ने अपने ऊपर तरल पदार्थ छिड़ककर आग लगा दी और जान देने की कोशिश की। दोनों ने सुप्रीम कोर्ट के गेट के बाहर ही खुद को आग लगा ली। दोनों ने गेट नंबर डी से अंदर घुसने की कोशिश की थी, लेकिन पर्याप्त आइडी नहीं होने कारण सुरक्षा कर्मियों ने उन्हें रोक लिया। इसके बाद दोनों ने खुद को आग लगा ली। फिलहाल दोनों को राम मनोहर लोहिया अस्पताल लाया गया है। पुलिस को मौके से एक बोतल भी मिली है। आशंका है कि बोतल में ही ज्वलनशील पदार्थ साथ लेकर दोनों आए थे। 

युवती बलिया (उत्तर प्रदेश) की रहने वाली है। पीड़िता के मुताबिक, बलिया में ही सामूहिक दुष्कर्म हुआ था। वहां की अदालतों में उसे न्याय नहीं मिला। इसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा था। सोमवार को सुनवाई होनी थी। इससे पहले युवती ने अचानक अपने ऊपर ज्वलनशील पदार्थ डाल कर आग लगा ली। वहीं, इसके साथ आए युवक का नाम सत्यम प्रकाश है और वह बनारस  (उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है।

इस मामले में नई दिल्ली जिले के डीसीपी दीपक यादव का कहना है कि मौके से दो बोतल मिली है जिसमें एक में केरोसिन और दूसरे में पेट्रोल है। इसने पास के दो लाइटर भी मिले हैं। इससे समझा जा सकता है कि वे प्लानिंग के साथ आत्महत्या करने सुप्रीम कोर्ट आए थे।