दुश्मनों पर भारी पड़ेगा एनएसजी का 'गांडीव', कमांडो बल ने शुरू किया आतंक निरोधक सशस्त्र अभ्यास


कमांडो बल ने आतंकी वारदात की आशंका वाले देश के 30-35 स्थानों पर शुरू किया वार्षिक अभ्यास

सोमवार को जारी आधिकारिक बयान के अनुसार इस अभ्यास में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश और गुजरात के विभन्न शहरों के उन स्थानों को शामिल किया गया है जो आतंकी वारदातों के लक्ष्य हो सकते हैं। अभ्यास के लिए 30-35 ऐसे स्थानों को चुना गया है।

नई दिल्ली, प्रेट्र। दुश्मनों के नापाक मंसूबों को नाकाम करने संबंधी अपनी तैयारियों को परखने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) ने व्यापक अभ्यास का आगाज किया है। एनएसजी कमांडो 'गांडीव' नामक इस वार्षिक अभ्यास में विमान अपहरण व बंधक बनाने जैसी परिस्थितियों में त्वरित प्रतिक्रिया और चुनौतियों को मात देने की अपनी बेजोड़ क्षमता का प्रदर्शन भी करेंगे। 22 को प्रारंभ हुए इस अभ्यास का समापन 28 अगस्त को होगा। 'गांडीव' महाभारत के महारथी अर्जुन के धनुष का नाम है।

सोमवार को जारी आधिकारिक बयान के अनुसार, 'इस अभ्यास में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और गुजरात के विभन्न शहरों के उन स्थानों को शामिल किया गया है, जो आतंकी वारदातों के लक्ष्य हो सकते हैं। अभ्यास के लिए 30-35 ऐसे स्थानों को चुना गया है।' विदेश मंत्रालय, गृह मंत्रालय, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों, राज्य एजेंसियों व विदेशी प्रतिनिधि इन अभ्यासों को देखेंगे।

आतंक निरोधक बल एनएसजी का गठन वर्ष 1984 में किया गया था। एनएसजी कमांडो आतंकी गतिविधियों से निपटने में दक्ष तो हैं ही, बल का विशेष दस्ता फिलहाल देश के कम से कम 13 अति महत्वपूर्ण व्यक्तियों को सुरक्षा प्रदान कर रहा है। मानेसर मुख्यालय के अलावा इसके पांच हब गांधीनगर, मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद व चेन्नई में हैं।