स्वतंत्रता दिवस मनाने से पहले ही यूपी गेट पर आपस में भिड़े प्रदर्शनकारी, जमकर चले लात-घूंसे

 



कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे धरने में शामिल प्रदर्शनकारी आपस में भिड़ गए।

कुछ प्रदर्शनकारी कार में सवार होकर धरना स्थल पर पहुंचे। यहां पहले से मौजूद प्रदर्शनकारियों से कार अंदर ले जाने को लेकर उनकी बहस हो गई। देखते-देखते गाली-गलौज और मारपीट शुरू हो गई। करीब आधे घंटे तक जमकर मारपीट हुई। मौके पर पहुंचे अन्य प्रदर्शनकारियों ने बीच-बचाव किया।

साहिबाबाद।केंद्र सरकार के खिलाफ किसानों का दिल्ली के विभिन्न बार्डरों पर धरना चल रहा है। किसान की मांग है सरकार नए कृषि कानून को रद करे वहीं सरकार ने इसे किसानों के हित में बता कर रद करने से इनकार कर दिया है। वहीं यूपी गेट गाजीपुर बार्डर] पर कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे धरने में शामिल प्रदर्शनकारी शनिवार देर रात में आपस में भिड़ गए। इस दौरान जमकर लात-घूसे चले। हालांकि, किसी पक्ष ने मामले की पुलिस से शिकायत नहीं की है।

यह है विवाद का कारण

बताया गया कि शनिवार रात करीब 11 बजे कुछ प्रदर्शनकारी कार में सवार होकर धरना स्थल पर पहुंचे। यहां पहले से मौजूद प्रदर्शनकारियों से कार अंदर ले जाने को लेकर उनकी बहस हो गई। देखते-देखते गाली-गलौज और मारपीट शुरू हो गई। करीब आधे घंटे तक जमकर मारपीट हुई। मौके पर पहुंचे अन्य प्रदर्शनकारियों ने बीच-बचाव किया। उसके बाद कार सवार प्रदर्शनकारी वापस लौट गए। मामले की किसी ने पुलिस से शिकायत नहीं की। पुलिस अधीक्षक नगर द्वितीय गाजियाबाद ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि मामले में शिकायत नहीं मिली है। शिकायत मिलने पर जांच करके उचित कार्रवाई की जाएगी।

मची रही अफरा-तफरी

विवाद एवं मारपीट के दौरान धरना स्थल पर काफी अफरा-तफरी मची रही। मौके पर काफी भीड़ एकत्र हो गई। पुलिस भी पहुंच गई। बता दें कि यहां आए दिन प्रदर्शनकारियों में कहासुनी हो रही है। शनिवार को बहस बढ़ने पर मारपीट हो गई।

निकाली तिरंगा यात्रा

प्रदर्शनकारियों ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर रविवार को यूपी गेट पर ध्वजारोहण किया। धरना स्थल पर ही तिरंगा यात्रा निकाली। इस दौरान कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था रही। गाजियाबाद और दिल्ली पुलिस अपनी-अपनी सीमाओं पर मुस्तैद रही। बता दें कि तीनों कृषि कानूनों के विरोध में यूपी गेट पर 28 नवंबर से धरना चल रहा है। प्रदर्शनकारियों ने यहां दिल्ली जाने वाली सभी लेनों पर कब्जा किया है। राहगीरों को अन्य सीमाओं से दिल्ली जाना पड़ रहा है। इससे काफी परेशानी हो रही है। बता दें कि किसान अपनी मांग पर अड़े हैं कि जब तक सरकार उनकी मांगें नहीं मानती है तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा।