बाइडन ने किया आगाह, दुनिया को अलकायदा और दूसरे आतंकी संगठनों से खतरा बताया, कहा- तनिक भी नहीं बदला है तालिबान


अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने तालिबान समेत दूसरे आतंकी संगठनों को लेकर दुनिया को आगाह किया है।
अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने तालिबान समेत दूसरे आतंकी संगठनों को लेकर दुनिया को आगाह किया है। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिकी राष्‍ट्रपति बाइडन ने कहा है कि तालिबान बिल्‍कुल भी नहीं बदला है। पढ़ें यह रिपोर्ट....

वाशिंगटन, एजेंसियां। एक ओर जहां अफगानिस्‍तान की सत्‍ता पर हथियारों और आतंक की बदौलत कब्‍जा करने वाला तालिबान अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय से समर्थन जुटाने की जुगत में है... वहीं दूसरी ओर अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने तालिबान समेत दूसरे आतंकी संगठनों से खतरे को लेकर दुनिया को आगाह किया है। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिकी राष्‍ट्रपति बाइडन ने कहा है कि तालिबान बिल्‍कुल भी नहीं बदला है। मौजूदा वक्‍त में वह अस्तित्व के संकट से गुजर रहा है। उन्‍होंने यह भी कहा कि हालिया वैश्विक बदलावों के चलते अल-कायदा और उनके सहयोगी संगठनों से खतरा दुनिया के अन्य हिस्सों में अफगानिस्तान की तुलना में काफी बढ़ गया है।

एक मीडिया हाउस को दिए एक साक्षात्‍कार में अमेरिकी राष्‍ट्रपति बाइडन (US President Joe Biden) ने कहा कि मैं दावे के साथ नहीं कह सकता हूं कि तालिबान अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा एक वैध सरकार का दर्जा पाना चाहता है। अफगानिस्‍तान में हुए ताजा घटनाक्रम पर बाइडन ने कहा कि मौजूदा वक्त में अल-कायदा और उनके सहयोगी संगठनों से खतरा दुनिया के बाकी हिस्सों में अफगानिस्तान की तुलना में बढ़ गया है। उन्होंने यह भी कहा कि सीरिया या पूर्वी अफ्रीका में अल-कायदा से जुड़े संगठनों की ओर से पैदा की गई समस्याओं को नजरअंदाज करना सही नहीं है। खासकर अमेरिका के लिए खतरा काफी बड़ा है।

अफगानिस्‍तान से अपने सैनिकों को वापस बुलाने के फैसले का बचाव करते हुए बाइडन ने कहा कि हमें इस बात पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए कि सबसे बड़ा खतरा कहां है। सैन्य बल के माध्यम से दुनिया भर में महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करने की कोशिश करना तर्कसंगत नहीं है। मानवाधिकारों का हनन करने वालों पर उनका व्यवहार बदलने के लिए राजनयिक और अंतर्राष्ट्रीय दबाव के माध्यम से कोशिशें की जानी चाहिए। रही बात तालिबान की तो मैं नहीं समझता हूं कि उसने अपनी मूलभूत मान्यताओं को बदल दिया है।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति से यह पूछे जाने पर कि क्‍या तालिबान के रवैये में आप कोई बदलाव देख रहे हैं। इस पर अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने दो-टूक कहा कि नहीं मुझे नहीं लगता कि ऐसा है। यह संगठन अपने विश्‍वासों के प्रति ज्‍यादा प्रतिबद्ध है। यह पूछे जाने पर कि क्या तालिबान एक वैध सरकार के रूप में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से मान्यता हासिल करना चाहता है। राष्‍ट्रपति ने कहा... नहीं मुझे यकीन नहीं है कि वे ऐसा कर रहे हैं। उन्‍होंने यह भी कहा कि अफगानिस्‍तान में महिलाओं के अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए आर्थिक और कूटनीतिक दबाव की जरूरत होगी। अमेरिकी राष्‍ट्रपति से यह पूछे जाने पर कि क्‍या तालिबान के रवैये में आप कोई बदलाव देख रहे हैं। इस पर अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने दो-टूक कहा कि नहीं मुझे नहीं लगता कि ऐसा है। यह संगठन अपने विश्‍वासों के प्रति ज्‍यादा प्रतिबद्ध है। यह पूछे जाने पर कि क्या तालिबान एक वैध सरकार के रूप में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से मान्यता हासिल करना चाहता है। राष्‍ट्रपति ने कहा... नहीं मुझे यकीन नहीं है कि वे ऐसा कर रहे हैं। उन्‍होंने यह भी कहा कि अफगानिस्‍तान में महिलाओं के अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए आर्थिक और कूटनीतिक दबाव की जरूरत होगी।