अफगानिस्तान में फंसे नुपुर अलंकर के जीजा, कहा- तालिबानियों को सड़को पर पेट्रोलिंग करते देख...

 

Photo Credit : Nupur Alankar Midday Photo
कौशल ने आगे बताया कि उन्होंने भारतीय दूतावास को भी मेल किया लेकिन वहां से कोई रिप्लाई नहीं आया है। उन्होंने बताया कि फ्लाइट लेने के लिए उन्हें वहां से काबुल जाना पड़ेगा लेकिन मुझे पता नहीं कि मैं वहां कैसे पहुंच पाउंगा।

नई दिल्ली। इस वक्त हर तरफ सिर्फ तालिबान और अफगानिस्तान की खबरें चर्चा में बनीं हैं। अफगानिस्तान पर जिस तरह से तालिबान ने कब्जा किया वो हैरान कर देने वाला है। तालिबान के कब्जे के बाद अफगानिस्तान के हालात भयावह स्तर पर पहुंच चुके हैं। इस पर लगातार लोग अपनी राय देते नजर आ रहे हैं। ऐसे में कई भारतीय ऐसे हैं जो अफगानिस्तान में फंसे हुए हैं जो बेदह खौफ में हैं। वहीं एक जानी मानी टीवी एक्ट्रेस के बहन के पति यानी उनके जीजा भी अफगानिस्तान में फंसे लोगों में एक भारतीय हैं। आइए जानते हैं कौन है वो...

छोटे पर्दे की फेमस एक्ट्रेस नुपुर अलंकार की बहन के पति कौशल अग्रवाल भी अफगानिस्तान फंसे हैं। 50 साल के कौशल अग्रवाल उनकी छोटी बहन जिज्ञासा के पति हैं। कौशल एक बिजनेसमैन हैं और वह बिजनेस के सिलसिले में 16 जुलाई को अफगानिस्तान गए थे। वहीं अफगानिस्तान से उनकी वापसी 15 अगस्त को होनी थी। लेकिन इसी बीच तालिबान ने काबुल को कब्जे में लेकर पूरे देश पर कब्जा कर लिया।

ई टाइम्स से हुई बातचीत में कौशल ने अफगानिस्तान के मौजूदा हालात के बारे में जो बताया उसे सुनकर सिकी का भी दिल कांज जाएगा। कौशल ने कहा, 'यहां के हालत बहुत ही खौफनाक हैं। वह 16 जुलाई को बिजनेस के काम से अफगानिस्तान गए थे। उस वक्त वहां सब ठीक था। इस बात का अंदाज किसी को भी नहीं था कि कुछ ही वक्त में हालात इतने खराब हो जाएंगे। उन्होंने 15 अगस्त को भारत वापसी का प्लान बनाया था लेकिन काम काम की वजह से उन्होंने दूतावास से अपने वीजा को 30 अगस्त तक बढ़वा लिया।'

कौयाल अग्रवाला आगे बताते हैं, 'वह अभी अपने एक दोस्त के दफ्तर में रह रहे हैं। वहां बिजली भी बहुत कम यानी महाज 2 या 3 घंटू पूरे दिन में आती है। पानी की भी सप्लाई का भी कुछ पता नहीं है। इसी वजह से वह तीन दिन में एक बार ही नहा पाते हैं। फोन तक चार्ज करने के लिए उन्हें कर की बेटरी का सहारा लेना पड़ता है। तालिबानियों ने शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक सभी मोबाइल नेटवर्क को रोकने का आदेश दिया है। इसी वजह से 6 बजे से पहले या सुबह 6 बजे के बाद ही बात कर सकते है।'कौशल ने आगे कहा, 'यहां पर तालिबानियों को कंधार की सड़को पर पेट्रोलिंग करते हुए देखा जा सकता है, जो ही किसी को भी बहुत बैचेन कर सकता है। हम यहां फंस गए हैं और भारता वापस अपने परिवार के पास लौटना चाहते हैं।'

कौशल ने आगे बताया कि उन्होंने भारतीय दूतावास को भी मेल किया लेकिन वहां से कोई रिप्लाई नहीं आया है। उन्होंने बताया कि फ्लाइट लेने के लिए उन्हें वहां से काबुल जाना पड़ेगा, लेकिन मुझे पता नहीं कि मैं वहां कैसे पहुंच पाउंगा।