किशोरी की कराई गई काउंसलिंग आरोपित पकड़ से अभी तक बाहर

 

16 साल की किशोरी को रात को 11 बजे अगवा कर लिया गया था।

किशोरी को अगवा कर चलती कार में दुष्कर्म करने के आरोपित पुलिस पकड़ से बाहर हैं। तीसरे दिन भी पुलिस की तीन टीम आरोपितों का पता नहीं लगा पाई हैं। उनके मोबाइल स्विच आफ हैं और स्वजन भूमिगत हो गए हैं।

नई दिल्ली/सोनीपत, संवाददाता। किशोरी को अगवा कर चलती कार में दुष्कर्म करने के आरोपित पुलिस पकड़ से बाहर हैं। तीसरे दिन भी पुलिस की तीन टीम आरोपितों का पता नहीं लगा पाई हैं। उनके मोबाइल स्विच आफ हैं और स्वजन भूमिगत हो गए हैं। गांव में पुलिस गश्त बढ़ा दी गई है। किशोरी ने पुलिस को अगवा करने वाले और नहर के किनारे कुछ देर गाड़ी को खड़ी करने वाले स्थान की शिनाख्त करा दी। पुलिस ने शनिवार को किशोरी की काउंसलिंग कराई।

सदर थानाक्षेत्र के एक गांव से 16 साल की किशोरी को रात को 11 बजे अगवा कर लिया गया था। गांव के ही तीन आरोपित उसको जबरन कार में डालकर ले गए थे। आरोपितों ने उसके साथ बारी-बारी से चलती कार में दुष्कर्म किया था। रात में करीब दो बजे कार को नहर के किनारे कुछ देर के लिए रोककर वहां पर भी दुष्कर्म किया गया था। वहां पर एक अन्य वाहन की लाइट दिखाई देने पर आरोपितों ने कार को फिर से घुमाना शुरू कर दिया था। उसके बाद करीब चार बजे किशोरी को उसके घर के पास छोड़ दिया गया था।

विजय विहार थाने के एसएचओ निलंबित

इधर, बाहरी दिल्ली में एसआइ के साथ बदसुलूकी करने के आरोप में विजय विहार थाने के एसएचओ सुधीर कुमार को शनिवार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। उन्हें रोहिणी जिले के पुलिस लाइन में भेजकर उनके खिलाफ विभागीय जांच की कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है। उमेश कुमार बतौर एसआइ विजय विहार थाने में तैनात हैं।