देश के लोगों द्वारा तालिबान की करतूतों का समर्थन किए जाने पर ऐसे भड़के कुमार विश्वास, पढ़िए क्या कहा

 

कुछ तालिबान के कदम को उचित बता रहे हैं कुछ गलत और आतंक को बढ़ावा देने वाला।

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे को लेकर देश के लोगों द्वारा दिए जा रहे बयान पर कवि कुमार विश्वास ने भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। हालांकि उन्होंने प्रत्यक्ष तौर पर किसी का नाम नहीं लिया बल्कि अप्रत्यक्ष तौर पर ऐसे लोगों पर निशाना साधा है।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे को लेकर देश के लोगों द्वारा दिए जा रहे बयान पर कवि कुमार विश्वास ने भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। हालांकि उन्होंने प्रत्यक्ष तौर पर किसी का नाम नहीं लिया बल्कि अप्रत्यक्ष तौर पर ऐसे लोगों पर निशाना साधा है। मालूम हो कि बीते दो-तीन दिनों से अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे और वहां की जा रही जोर जबरदस्ती पर कई जाने-माने लोगों ने अपनी प्रतिक्रियाएं व्यक्त की है। कुछ तालिबान के कदम को उचित बता रहे हैं तो कुछ गलत और आतंक को बढ़ावा देने वाला बता रहे हैं। वैसे तालिबान की कट्टरता किसी से छिपी नहीं है।

दरअसल शायर मुनव्वर राणा पहले भी कई बार बीजेपी सरकार के फैसलों के खिलाफ लगातार बयानबाजी करते रहे हैं, अब इस बार फिर से उनके बोल बिगड़ गए। उन्होंने तालिबानियों की अफगानिस्तान में क्रूरता करने को लेकर बेहद विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में तालिबानी जैसा कर रहे हैं, उससे अधिक क्रूरता तो भारत में होती है, हम तो दंगे करवाने में विश्वगुरु हैं।

इधर ये देखने में आया कि यूपी में भी ताबिलानियों के प्रशंसकों की संख्या में बढ़ोत्तरी होती जा रही है। समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. शफीकुर्रहामान बर्क, आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रवक्ता और पूर्व मंत्री मौसाना मसूद मदनी के बाद अब मशहूर शायर मुनव्वर राणा ने भी तालिबानी आतंकियों का समर्थन किया है। शायर मुनव्वर राणा इतने पर ही नहीं रुके, उन्होंने कहा कि संभल के सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान का भी बचाव किया। राणा ने कहा कि डॉ. बर्क ने तालिबान के पक्ष में बयान दिया। मुनव्वर राणा का साफ मानना है कि वहां पर तालिबानी बुरे लोग नहीं हैं। वह तो हालात की वजह से ऐसे हो गए हैं। उन पर भरोसा किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि हम दंगे करवाने में विश्वगुरु हैं तो हम थोड़े-से कठमुल्लों से क्यों डरें। उनके खिलाफ दर्ज किया गया मुकदमा गलत है।

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे को लेकर सबसे ज्यादा आलोचना कवि मुनव्वर राणा के बयान की गई, कुछ टीवी चैनलों पर दिए गए उनके बयान पर पूरे दिन हंगामा मचा रहा। अब कवि कुमार विश्वास ने अपने इंटरनेट मीडिया एकाउंट ट्विटर पर एक ट्वीट किया, अपने इस ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि ज़्यादा दिमाग़ न लगाइए। अगर पड़ोस के घर में मची अफ़रातफ़री के कारण,ज़िंदगी भर आपसे इज़्ज़त पाने वाले और आपके घर में रह रहे, बदबूदार सोच से भरे किसी जाहिल शख़्स का पर्दाफ़ाश हो रहा है तो शोक नहीं, शुक्र मनाइए कि दो पैसे की प्याली गई (वो भी पड़ोसियों की) पर कुत्ते की जात पहचानी गई. Thumbs down

उनके इस ट्वीट के मायने को आसानी से समझा जा सकता है। कुमार ने अपने इस ट्वीट के माध्यम से तालिबान का समर्थन करने वाले सभी लोगों को अपनी ही स्टाइल में संदेश दे दिया है।